Home » Archive by category "Languages" (Page 4)

Bus ki Yatra “बस की यात्रा” Hindi Essay 400 Words for Class 10, 12.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
बस की यात्रा Bus ki Yatra बस द्वारा यात्रा नीरस और उबाऊ होती है। हम जैसे ही एक स्थान ग्रहण करते हैं, तब से अपनी मंजिल तक हमें एक ही स्थान पर बैठे रहना पड़ता है। हम बस में स्वतन्त्रतापूर्वक घूम नहीं सकते हैं। अपने सहयात्रियों के साथ हम अपने विचारों का आदान-प्रदान नहीं कर सकते हैं। इसके बदले हम अपनी आँख बन्द ही रखना पसन्द करते हैं। ग्रीष्म ऋतु में...
Continue reading »

Mere Jeevan ka ek Yadgaar Din “मेरे जीवन का एक यादगार दिन” Hindi Essay 400 Words for Class 10, 12.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
मेरे जीवन का एक यादगार दिन Mere Jeevan ka ek Yadgaar Din 4 अप्रैल, 1999 को सुबह में जल्दी जाग नहीं सका और अपने आपको उपेक्षित-सा पाया। बिस्तर से उठने के बाद भी किसी ने मुझे प्रभात या नमस्ते नहीं बोला। सरकारी महाविद्यालय के उस होस्टल में, जिसमें दो सौ विद्यार्थियों के रहने की व्यवस्था है, किसी ने भी गलियारे से गुजरते समय मेरे बारे में न सोचा। जबकि यह मेरी...
Continue reading »

Safalta jitna safal koi nahi hota “सफलता जितना सफल कोई नहीं होता” Hindi Essay 400 Words for Class 10, 12.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
सफलता जितना सफल कोई नहीं होता  Safalta jitna safal koi nahi hota  जीवन की तरह इतिहास में भी सफलता की ही गिनती होती है। यदि आप एक राजनीतिक क्रांति शुरू करें तो पकड़े जाने पर आपको एक देशद्रोही कह कर फांसी दे दी जायेगी। किन्तु यदि आप विद्रोही नेता की हैसियत से कोई बात मनवाने में सफल होते हैं तो भविष्य की सभी पीढ़ियाँ आपकी पूजा राष्ट्र पिता के रूप में...
Continue reading »

Kya Manushya ka koi bhavishya hai? “क्या मनुष्य का कोई भविष्य है?” Hindi Essay 300 Words for Class 10, 12.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
क्या मनुष्य का कोई भविष्य है? Kya Manushya ka koi bhavishya hai? क्या मनुष्य का कोई भविष्य है ? यह एक विवादास्पद विषय है। इस प्रश्न का उत्तर मनुष्य के स्वभाव पर निर्भर करता है कि वह आशावादी है या निराशावादी। जो आशावादी हैं वे सकारात्मक उत्तर देंगे और जो निराशावादी हैं वे नकारात्मक उत्तर देंगे। कुछ लोग सोचते हैं कि आने वाले दिनों में लोगों का भविष्य उज्ज्वल होगा और...
Continue reading »

Ek Vishvavidhyala ke bare me aapki dharna “एक विश्वविद्यालय के बारे में आपकी धारणा” Hindi Essay 500 Words for Class 10, 12.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
एक विश्वविद्यालय के बारे में आपकी धारणा Ek Vishvavidhyala ke bare me aapki dharna  स्वतन्त्रोत्तर भारत में विश्वविद्यालयों की संख्या में बहुत तेजी से वृद्धि हुई है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने उन्हें उदार अनुदानों की मंजूरी दी है। अति विशाल इमारतें विभिन्न शहरों और महानगरों में बनी हैं और इन्हें विद्या का केन्द्र समझा जाता है।. वास्तव में यह राजनीतिक षड्यंत्र का अखाड़ा सिद्ध हो रहा है जब कि उनसे ज्ञान...
Continue reading »

Bhartiyo ko Angreji kyo padhni chahiye? “भारतीयों को अंग्रेजी क्यों पढ़नी चाहिए?” Hindi Essay 300 Words for Class 10, 12.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
भारतीयों को अंग्रेजी क्यों पढ़नी चाहिए? Bhartiyo ko Angreji kyo padhni chahiye? जब भारत स्वतंत्र हुआ तो बहुत से लोगों ने माँग की थी कि अंग्रेजी को भी इस देश से निकाल दिया जाए। यह हमारे शासकों की भाषा थी इसलिए हमारी दासता की पीड़ा जनक याद दिलाती है। परन्तु समय के साथ-साथ हमारी असहनशीलता कम हो गई है। अनुभव ने हमें सिखाया है कि अंग्रेजी उतनी ही हमारी भाषा है...
Continue reading »

Neta ke Avashyak Gun “नेता के आवश्यक गुण” Hindi Essay 500 Words for Class 10, 12.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
नेता के आवश्यक गुण Neta ke Avashyak Gun ऐसा प्रतीत होता है कि भारत में नेता वृक्षों पर उगते हैं। जिस व्यक्ति को थोड़ा बोलना आ जाता है वही लोगों का अगुआ बन बैठता है। हमारी जनता इतनी भोली-भाली है कि वे किसी के भी पीछे लग जाती है। भेड़ों को भी अपने गड़ेरिये का पता होता है, परन्तु हमारी जनता को नहीं। नेता प्रतिदिन अपना दल बदलता रहता है। रात...
Continue reading »

Mrityu se pehle kayar kai baar marta hai “मृत्यु से पहले कायर कई बार मरते हैं” Hindi Essay 500 Words for Class 10, 12.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
मृत्यु से पहले कायर कई बार मरते हैं Mrityu se pehle kayar kai baar marta hai लगातार मृत्यु से डरते हुए जीना स्वयं ही मृत्यु के समान है। कायर व्यक्ति की आत्मा मामूली भय अथवा हानि की थोड़ी सी आशंका से काँपने लगती है। तब उसकी सभी शक्तियाँ कुण्ठित हो जाती हैं और उसकी इच्छा-शक्ति दुर्बल हो जाती है। ऐसा व्यक्ति कीड़े की तरह जीता है जिसे कभी भी कुचला और...
Continue reading »