Home » Archive by category "Languages" (Page 2)

Hindi Essay, Paragraph on “परीक्षा प्रणाली में सुधार की आवश्यकता”, “Pariksha Pranali me Sudhar ki Avyashayakta” 200 words Complete Essay for Students.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
परीक्षा प्रणाली में सुधार की आवश्यकता Pariksha Pranali me Sudhar ki Avyashayakta    परीक्षा की उपादेयता सुधार की आवश्यकता निष्कर्ष । पाठ्यक्रम में निर्धारित पुस्तकों को अच्छी तरह पढ़कर अच्छे अंकों में परीक्षा पास कर लेने से किसी व्यक्ति की योग्यता की सही जाँच नहीं हो सकती। परीक्षाओं में सदैव प्रथम स्थान प्राप्त करने वाला व्यक्ति अनेक बार जीवन की दौड़ में पिछड़ जाता है। स्कूली परीक्षाएँ तो केवल इस तथ्य...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph on “पुस्तकें ज्ञान का साधन”, “Pustake Gyan ka Sadhan” 200 words Complete Essay for Students of Class 9, 10 and 12 Exam.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
पुस्तकें ज्ञान का साधन Pustake Gyan ka Sadhan ज्ञान का साधन सुख का साधन पुस्तकों के लाभ मानव-जाति ने जो कुछ किया, सोचा और पाया है, वह पुस्तकों के जादू भरे पृष्ठों में सुरक्षित है। मानव-सभ्यता तथा संस्कृति के विकास का समूचा श्रेय पुस्तकों को जाता है। पुस्तकों में निहित विचारों पर किसी एक व्यक्ति, जाति अथवा राष्ट का अधिकार नहीं होता, उन पर मानव मात्र का अधिकार होता है। पुस्तकों...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph on “सपने में अंतरिक्ष की यात्रा”, “Sapne mein Antriksh ki Yatra” 200 words Complete Essay for Students of Class 9, 10 and 12 Exam.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
सपने में अंतरिक्ष की यात्रा Sapne mein Antriksh ki Yatra कब कहाँ क्यों? अंतरिक्ष से धरती का दृश्य अंतरिक्ष के रोमांचक अनुभव स्वप्न-भग के पश्चात् की स्थिति एवं अनुभव। सपने देखना मानव का स्वभाव है। सपनों से ही मनुष्य नया करने की प्रेरणा पाता है। मैं भी एक दिन विज्ञान फांतासी देख रहा था। देखते-देखते नींद आ गई और में स्वयं को अंतरिक्ष में पाया। मैं एक वायुयान में सवार होकर...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph on “वर्षा ऋतु का दृश्य”, “Varsha Ritu ka Drishya” 150 words Complete Essay for Students of Class 9, 10 and 12 Exam.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
वर्षा ऋतु का दृश्य Varsha Ritu ka Drishya  वर्षा ऋतु का महत्व सायंकालीन दृश्य मानव मन पर प्रभाव वर्षा ऋतु को ऋतु-रानी कहा जाता है। गरमी से जलती धरती को राहत देने के लिए काले-काले बादल घुमड़कर आते हैं तथा बरसकर प्रसन्नता प्रदान करते हैं। ऐसी ऋतु की संध्या कितनी सुंदर होगी, यह हम सिर्फ कल्पना कर सकते हैं। इस समय नदी, नाले, तालाब, खेत-पानी से भर जाते हैं। चारों तरफ...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph on “फूल की आत्मकथा”, “Phool ki Atamakatha” 350 words Complete Essay for Students of Class 9, 10 and 12 Exam.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
फूल की आत्मकथा Phool ki Atamakatha  सुख-दुख में समान जीवन प्रकृति की शोभा और सुंदरता का अंग जीवन का अंत। मैं फल हूँ। आकाश के नीचे मेरा आवास है। ग्रीष्म, वर्षा, शीत को सहन करने का मुझे अभ्यास है। मैं वायु के मंद-मंद झोकों से नाचता हूँ, परंतु प्रचंड पवन के झोंको को भी हँसते-हँसते सहन करता हूँ। दूसरों को अपने रूप सौंदर्य, गंध तथा कोमलता द्वारा प्रसन्न करना ही मेरा...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph on “अगर खेल न होते”, “Agar Khel Na Hote ” 150 words Complete Essay for Students of Class 9, 10 and 12 Exam.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
अगर खेल न होते Agar Khel Na Hote  खेल मनोरंजन का साधन खेल व स्वास्थ्य खेल व सट्टेबाजी खेल मानव के मनोरंजन का साधन है। इससे जीवन की एकरसता नहीं रहती। अब अगर यह कल्पना करें कि अगर खेल न होते तो क्या होता? मनुष्य अपना मनोरंजन कैसे करता? अगर खेल न होते तो सबसे पहले मानव स्वभाव आलसी, अकर्मण्य व क्रोधी होता। मनुष्य एक ही कार्य को लगातार करके बोर...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph on “मेरी प्रिय ऋतु”, “Meri Priya Ritu” 150 words Complete Essay for Students of Class 9, 10 and 12 Exam.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
मेरी प्रिय ऋतु Meri Priya Ritu बसंत ऋतु प्रिय होने के कारण प्राकृतिक सौंदर्य बसंत को ‘ऋतुराज’ की संज्ञा दी गई है। जब यह आता है तो हर्ष व आनंद को साथ लाता है। हर प्राणी इस आनंद में डूब जाता है। माघ सुदी पंचमी के दिन बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन हर जगह लोग पीले रंग के वस्त्र पहनते हैं। कई प्रकार के नए-नए भोजन तैयार...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph on “भ्रष्टाचार: एक सामाजिक समस्या”, “Bhrashtachar Ek Samajik Samasya” 150 words Complete Essay for Students of Class 9, 10 and 12 Exam.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
भ्रष्टाचार: एक सामाजिक समस्या Bhrashtachar Ek Samajik Samasya  भ्रष्टाचार की वर्तमान दशा सुविधाओं की इच्छा उत्प्रेरक कारक भ्रष्टाचार का अर्थ है-अनैतिक व्यवहार। किसी भी कार्य को वैधानिक तरीके से न करना भी भ्रष्टाचार कहलाता है। भारत में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। न्याय प्रशासन, शिक्षा संसद आदि हर जगह भ्रष्टाचार ने अपने पाँव फैला लिए हैं। सरकारी दफ्तरों में फाइल ही रिश्वत से खुलती है। पुलिस रिश्वत लेकर अपराध का चरित्र...
Continue reading »