Home » Posts tagged "Hindi Nibandh"

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Adhikar hi Kartvya Hai”, “अधिकार ही कर्त्तव्य है” Complete Essay 1000 Words for Class 9, 10, 12 Students.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
अधिकार ही कर्त्तव्य है Adhikar hi Kartvya Hai “सड़कें गंदी हैं नालियाँ रुकी हुई हैं, गन्दा पानी गली-गली में फैल रहा है। बराबर चेतावनी दी जा रही है कि शहर में हैजा फैल रहा है, मलेरिया जोर पकड़ रहा है, शहर को साफ-सुथरा रखो। कटी, खुली चीजें मत खाओ। पर कौन सुनता है?” रामअवध बराबर मन ही मन बड़बड़ा रहा था। दूरभाष पर जगह-जगह, मोहल्ले-मोहल्ले से उसे यह शिकायत सुनाई जा...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Holi Hai”, “होली है” Complete Essay 1200 Words for Class 9, 10, 12 Students.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
होली है Holi Hai   होली का पुनीत पर्व सर्वश्रेष्ठ ऋतु बसन्त में मनाया जाता है। इस पर्व का हिन्दी कवियों ने विस्तृत वर्णन किया है। कवियों की होली जन-साधारण जैसी हुल्लडबाजी की होली नहीं है। उन्होंने आत्माभिव्यक्ति एवं अपने युग के आहान को भी होली-कविता में व्यक्त किया है। अतएव हिन्दी कविता में होली का वर्णन विविध रूपों में हुआ है। जन-साधारण तो होली रंग, गलाल, केसर, कीचड़ आदि से...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Samaj Aur Kuprathaye”, “समाज और कुप्रथाएँ” Complete Essay 1000 Words for Class 9, 10, 12 Students.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
समाज और कुप्रथाएँ Samaj Aur Kuprathaye   हम जहाँ रहते हैं, जिनके बीच में रहते हैं, वह समाज है। समाज मनुष्यों के मिल-जुलकर रहने का स्थान है। व्यक्ति अकेला नहीं रह सकता। आज व्यक्ति जो भी कुछ है, वह समाज के कारण हैं। तो व्यक्ति है, उसका विकास या पतन है। बिना समाज के व्यक्ति की कल्पना नहीं की की,जा सकती। सभ्यता, संस्कृति, भाषा आदि सब समाज की देन है। समाज...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Registan Ki Yatra”, “रेगिस्तान की यात्रा” Complete Essay 1500 Words for Class 9, 10, 12 Students.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
रेगिस्तान की यात्रा Registan Ki Yatra   भारत में हिमालय भी है और रेगिस्तान भी, रेत के टीले ही टोले हैं रोगिस्तान में। पानी को तरसता है रेगिस्तान। नदियों का नितांत अभाव है वहाँ, मीलों तक जनहित प्रदेश वर्षों से सोया पड़ा है। दिन में तपता रेगिस्तान रात में अत्यन्त मधर हो जाता है। तपते हुए तीबे रात को ठण्डे हो जाते हैं। नंगे पाँव उन पर चलते हुए अद्भुत सुकून...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Rojgar Ka Adhikar”, “रोजगार का अधिकार” Complete Essay 1500 Words for Class 9, 10, 12 Students.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
रोजगार का अधिकार Rojgar Ka Adhikar आज रोजगार पाने की समस्या विकट रूप धारण कर चुकी है। लगभग सारी दुनिया इस समस्या से ग्रस्त हैं तीसरी दुनियाँ के देशों का इसका अभिशाप भोगना पड़ रहा है। भारत में इस समस्या ने विकराल रूप धारण कर लिया है। जनसंख्या में निरंतर तीव्रगति से संवर्द्धन महिलाओं का रोजगार में तेजी से प्रवेश, प्रौद्योगिकी का तेजी से मनुष्य का स्थान लेना, अकाल मृत्यु से...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Dahej Ek Danav”, “दहेजः एक दानव” Complete Essay for Class 9, 10, 12 Students.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
दहेजः एक दानव Dahej Ek Danav शायद ही कोई ऐसा दिन हो जब दहेज के कारण किसी वधू को जलाया या मारा नहीं गया हो दहेज की माँग अंधस्वार्थ का प्रतीक है और स्त्री-पुरूष की समानता का विरोधी स्वर है। दहेज लेना और देना दोनों ही अपराध माने जाते हैं। सरकार यह कानून बना चुकी है फिर भी सरेआम दहेज लिया जा रहा है और दिया जा रहा है। ताज्जुब तो...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Swasthya Hi Jeevan Hai”, “स्वास्थ्य ही जीवन है” Complete Essay for Class 9, 10, 12 Students.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
स्वास्थ्य ही जीवन है Swasthya Hi Jeevan Hai   यदि हम स्वस्थ हैं तो हम एक साधारण भारत के नागरिक भी है। यदि हम अस्वस्थ हैं तो गरीब, अयोग्य और उपेक्षित भी है। किसी देश, जाति, समाज तथा सम्प्रदाय की उन्नति तभी संभव है, जबकि वे स्वस्थ और स्फूर्त है। संसार के इतिहास को उठाकर इस बात का अध्ययन करें कि कौन-सा देश कब उन्नतिशील, स्मृद्धिशाली, सभ्य तथा सुसंस्कृत रहा, तो...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Deepawali Deepo ka Tyohar”, “दीपावली दीपों का त्यौहार” Complete Essay for Class 9, 10, 12 Students.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
दीपावली दीपों का त्यौहार Deepawali Deepo ka Tyohar भारत त्यौहारों का देश है, यहाँ समय-समय पर विभिन्न जातियों समुदायों द्वारा अपने-अपने त्यौहार मनाये जाते हैं सभी त्यौहारों में दीपावली सर्वाधिक प्रिय है। दीपों का त्यौहार दीपावली, दीवाली जैसे अनेक नामों से पुकारा जाने वाला आनन्द और प्रकाश का त्यौहार है। यह त्यौहार भारतीय सभ्यता-संस्कृति का एक सर्वप्रमुख त्यौहार है। यह ऋतु परिवर्तन का सूचक है। इसके साथ अनेक धार्मिक मान्यताएँ भी...
Continue reading »