Home » Posts tagged "Hindi Essay" (Page 205)

Hindi Essay on “Rupaye ko mila Naya Pratik Chinh” , ”रुपए को मिला नया प्रतीक चिह्न” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

रुपए को मिला नया प्रतीक चिह्न सम्राट शेरशाह सूरी द्वारा पहली बार रुपया जारी करने के तकरीबन 500 साल बाद और आधुनिक भारत द्वारा मौजूदा कई संकेतो कई और प्रतिको को स्वीकार करने के करीब 50 साल बाद 15 जुलाई , 2010 को भारतीय मुद्रा को अपना प्रतीक चिह्न मिला है | सभी वैश्विक मुद्राओं के प्रतीक चिह्नों को देखकर वर्ष 2009 में भारत सरकार ने भी यह घोषणा की थी...
Continue reading »

Hindi Essay on “Berojgari ki Samasya” , ” बेरोजगारी की समस्या” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

berojgari-ki-Samasya-essay
भारत में बेरोजगारी Bharat me Berojgari अथवा बेरोजगारी की समस्या  Berojgari ki Samasya   7 Best Hindi Essay on “Berojgari ki Samasya” निबंध नंबर :-01 समस्याओ के देश भारतवर्ष में जो एक बहुत बड़ी समस्या सभी को पीड़ित व आतंकित किए हुए है, वह है बेकारी की समस्या | भारत में यह समस्या द्वितीय महायुद्ध के समाप्त होते – होते बढने लगी थी और आज यह अपनी चरम सीमा पर विद्दमान...
Continue reading »

Hindi Essay on “Manoranjan Ke Adhunik Sadhan” , ” मनोरंजन के आधुनिक साधन” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
मनोरंजन के आधुनिक साधन Manoranjan ke Adhunik Sadhan Best 4 Essays on “Manoranjan ke Aadhunik Sadhan” in Hindi निबंध नंबर :-01  मनुष्य दिन भर शारीरिक व् मानसिक श्रम करके थक जाता है | वह इस थकान को मनोरंजन के द्वारा दूर करना चाहता है | दैनिक जीवन के विभिन्न कार्यकलापो में उसे अनेक प्रकार की उलझने, निराशा और नीरसता का सामना करना पड़ता है | इन सभी को समाप्त करने के...
Continue reading »

Hindi Essay on “Doordarshan” , ” दूरदर्शन” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Doordarshan-Essay
दूरदर्शन Doordarshan 4 Best Hindi Essay on “Doordarshan” निबंध नंबर :- 01 ‘दूरदर्शन या टेलीविज़न वर्तमान में मनोरंजन का सर्वाधिक प्रचलित साधन है। इसकी पहुँच आज घर-घर में हो गई है। यह रेडियो का विकसित रूप है। रेडियो श्रवणेंद्रिय को लाभ पहुँचाता है, किन्तु दूरदर्शन श्रवणेंद्रिय के साथ ही नेत्रों को भी आनंद देता है। दूरदर्शन का आविष्कार 1926 में इंगलैंड के वैज्ञानिक जे. एल. बेयर्ड द्वारा किया गया। भारत में...
Continue reading »

Hindi Essay on “Cinema ke Labh aur Haniya” , ” सिनेमा के लाभ व हानियाँ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
चलचित्र (सिनेमा) के लाभ व हानियाँ Essay No. 01 मनुष्य के लिए मनोरंजन अत्यन्त आवश्यक है | आधुनिक युग में विज्ञान ने मानव को मनोरंजन  के अनेक साधन प्रदान किए है जैसे रेडियो , दूरदर्शन , फोटोग्राफी , चित्रकला, खेलकूद व् प्रदर्शनियाँ आदि | इनमे सबसे अधिक लोकप्रिय व् सस्ता साधन चलचित्र है | आज के युग में इसका अपना विशेष स्थान है | यह वह साधन है जहाँ धनी हो...
Continue reading »

Hindi Essay on “Telephone ke Labh aur Haniya” , ” टेलीफोन – लाभ व हानियाँ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

टेलीफोन – लाभ व हानियाँ आज के यान्त्रिक युग में मानव को सुख- सुविधा प्रदान करने वाले अनेक आविष्कारो में से टेलीफोन (दूरभाष) एक है | टेलीफोन के आविष्कार ने मानव के बीच दुरी को कम कर दिया है | इस यंत्र के माध्यम से हम कुछ ही क्षणों में विश्व के किसी भी कोने में बैठे हुए व्यक्ति या आत्मीय जन से सम्पर्क स्थापित कर सकते है | यह आज...
Continue reading »

Hindi Essay on “Radio” , ”रेडियो” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

रेडियो आकाशवाणी अथवा रेडियो आधुनिक विज्ञान की एक ऐसी दें है जिसने आधुनिक मानव – समाज को सर्वाधिक प्रभावित एव आकर्षित किया है | यह एक ऐसा श्रव्य माध्यम है जो अनेक प्रकार की जानकारियाँ , शिक्षाएँ, समाचार आदि देने के साथ –साथ घर बैठे-बैठे अनेक तरह से हमारा मनोरंजन भी किया करता है | यह मानव का बहुत अच्छा मित्र है | रेडियो का अविष्कार इटली के मार्कोनी नामक एक...
Continue reading »

Hindi Essay on “Vishavshanti aur Bharat” , ”Bharat or Parmanu Shakti” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

विश्वशान्ति और भारत भारत सदैव अध्यात्मवादी और शान्तिप्रिय राष्ट्र रहा है | यह निशिचत है कि संसार की सुख और समृद्धि केवल शांतिपूर्ण वातावरण में ही संभव है और भारत इसके लिए सदैव प्रयत्नशील रहा है | भारत ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ तथा ‘सर्वे भवन्तु सुखिन : सर्वे सन्तु निरामया : की कामना करने वाला राष्ट्र है जिसकी मूल भावना शान्ति स्थापित करने की है | ‘बहुजन हिताय’ की भावना  रखने वाला देश...
Continue reading »