Home » Posts tagged "Hindi Essay" (Page 207)

Hindi Essay on “Rupaye Ki Atam Katha” , ” रुपए की आत्मकथा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

रुपए की आत्मकथा मै रुपया हूँ | मै पृथ्वी माता की सन्तान हूँ | मेरी जन्म भूमि अमेरिका में मैकिसको है | मेरे भाई बन्धुओ में ताँबा, शीशा तथा जस्ता आदि है | वर्षो तक मै अपने इन आत्मीयजनो के साथ माता की गोद में सुख- चैन की नीद सोता रहा हूँ | एक दिन सहसा श्रमिको तथा मशीनों की सहायता से मेरा भर खोदा जाने लगा | उस समय मै...
Continue reading »

Hindi Essay on “Nadi Ki Atamkatha” , ” नदी की आत्मकथा ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
नदी की आत्मकथा निबंध नंबर : 01 मै नदी हूँ | मेरे कितने ही नाम है जैसे नदी , नहर , सरिता , प्रवाहिनी , तटिनी, क्षिप्रा आदि | ये सभी नाम मेरी गति के आधार पर रखे गए है | सर- सर कर चलती रहने के कारण मुझे सरिता कहा जाता है | सतत प्रवाहमयी होने के कारण मुझे प्रवाहिनी कहा गया है | इसी प्रकार दो तटो के बीच...
Continue reading »

Hindi Essay on “Pustak Ki Atam Katha” , ” पुस्तक की आत्मकथा ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
पुस्तक की आत्मकथा निबंध नंबर : 01 वर्तमान में मै एक पुस्तक हूँ | मुझे पाकर मानो मानव ने एक अमर निधि प्राप्त कर ली है | मै उसे सदा ज्ञान – विचारो का दान देती रहती हूँ | मुझे आज ज्ञान – विज्ञान और समझदारी का , आनन्द और मनोरंजन का खजाना माना जाता है | परन्तु आदर – मान की यह स्थिति मुझे एकाएक या सरलता से नही मिल...
Continue reading »

Hindi Essay on “Chai ki Atam Katha” , ”चाय की आत्मकथा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

चाय की आत्मकथा मै ‘चाय’ आज के युग की अमर देंन  हूँ | मै आज सारे विश्व में व्यापित हूँ | आधुनिक पेय पदार्थो में मेरा विशेष स्थान है | मेरे मन में किसी के प्रति लेशमात्र भी भेदभाव नही | मै सभी को समान स्फूर्ति प्रदान करती हूँ | बड़े – बड़े होटलों और भवनों से लेकर छोटी-छोटी झोपड़ियो तक मेरी पहुँच है | शादी – विवाह व स्वागत समारोहों...
Continue reading »

Hindi Essay on “Sainik Ki Aatam Katha ” , ” सैनिक की आत्मकथा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
सैनिक की आत्मकथा Sainik ki Aatam Katha निबंध नंबर : 01 मै एक सैनिक हूँ | मेरा नाम बलवन्त सिह है | मै हरियाणा प्रान्त के एक गाँव पौलंगी का रहने वाला हूँ | मेरे पूर्वज शौर्य के प्रतीक थे | वे भी मिलिट्री के जवान रह चुके है | बचपन में मै उनके शौर्य तथा बलिदान की गाथा सुनता रहता था | उनकी इन शौर्य –गाथाओ को सुन –सुन कर...
Continue reading »

Hindi Essay on “Yadi Main Doctor Hota ” , ” यदि मै डाक्टर होता” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
यदि मै डाक्टर होता Yadi mein Doctor hota निबंध नंबर : 01 संसार में कई प्रकार के व्यवसाय हैं, उद्योग-धन्धे हैं, नौकरियाँ और कार्य-व्यापार हैं। उनमें से कई बड़े ही मानवीय माने जाते हैं। यों तो सभी का सम्बन्ध मनुष्य के साथ ही हुआ करता है; पर कुछ कार्य-व्यापार इस तरह के भी हैं कि जिन की स्थिति मानवीय दृष्टि से बड़ी ही सम्वेदनशील हुआ करती है। उसका सीधा सम्बन्ध मनुष्य...
Continue reading »

Hindi Essay on “Yadi Mein Vidyalaya ka Pradhanacharya Hota” , ” यदि मै विद्दालय का प्रधानाचार्य होता” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
यदि मै विद्दालय का प्रधानाचार्य होता Yadi Mein Vidyalaya ka Pradhanacharya Hota निबंध नंबर : 01 विद्दालय में प्रधानाचार्य  का पड़ अत्यन्त महत्त्वपूर्ण तथा उत्तरदायित्व पूर्ण होता है | वह विद्दालय का सर्वोच्च अधिकारी होता है | किसी भी विद्दालय की उन्नति और अवन्ती इसके प्रधानाचार्य की बहुत बड़ी भूमिका होती है | वह विद्दालय का केन्द्र होता है जिसके चारो और विद्दालय की समस्त गतिविधियाँ घुमती रहती है | उसके...
Continue reading »

Hindi Essay on “Yadi Mein Karodpati Hota” , ” यदि मै करोडपति होता ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi-Essay-Hindi-Nibandh-Hindi
यदि मै करोडपति होता  Yadi Mein Karodpati Hota निबंध नंबर : 01  आज के भौतिक युग में धन सम्पति से परिपूर्ण होना बड़े सौभाग्य की बात है | परन्तु इसके बिना जीवन निरर्थक-सा लगता है | जिस व्यक्ति के पास बहुत अधिक सम्पत्ति हो जाती है वह प्राय : बुराइयो की और अग्रसर होने लगता है | वे मदिरापान करने लगते है, व्यभिचारी बन जाते है तथा अन्य अनेक प्रकार के...
Continue reading »