Home » Question Paper » Download HPPSC Shimla Naib Tehsildar General Hindi-Compulsory (Main Examination) Previous Year Question 2019 with Pdf.

Download HPPSC Shimla Naib Tehsildar General Hindi-Compulsory (Main Examination) Previous Year Question 2019 with Pdf.

Naib Tehsildar (Main Examination)-2019

Hindi (Compulsory)

Paper-IV

Time Allowed: 1.30 Hours  Max. Marks: 50

Download Naib Tehsildar Question Paper as a PDF

सभी प्रश्न अनिवार्य है।

निम्नलिखित अंग्रेज़ी अवतरण का हिंदी में अनुवाद कीजिए :

The medium, or process, of our time-electric technology, is reshaping and restructuring patterns of social interdependence and every aspect of our personal life. It is forcing us to reconsider and reevaluate practically every thought, every action, and every institution formerly taken for granted. Everything is changing-you, your family, your neighborhood, your education, your job, your government, your relation to the others.” And they’re changing dramatically.

Societies have always been shaped more by the nature of the media by which men communicate than by the content of the communication. The alphabet, for instance, is a technology that is absorbed by the very young child in a completely unconscious manner, by osmosis to speak. Words and the meaning of words predispose the Child to think and act automatically in certain ways.

 

निम्नलिखित गद्यांश की व्याख्या इस तरह कीजिए कि लेखक का मंतव्य, प्रमुख शब्दों के अर्थ, भाव-पल्लवन एवं मुख्य विचार बिंदु व्याख्या में स्पष्ट हो जाएँ :10 महाभारत को उन्चल चरित्रों का वन कहा जा सकता है। वह कवि-रूपी माली का यत्नपूर्वक सँवारा हुआ उद्यान नहीं है जिससे प्रत्येक लता-पुष्प-वृक्ष अपने सौन्दर्य के लिए बाहरी सहायता की अपेक्षा रखते हैं, बल्कि यह अपने आपकी जीवनीशक्ति से परिपूर्ण वनस्पतियों और लताओं का अयत्नपरिवर्द्धित विशाल बन है जो अपनी उपमा आप ही है। महाभारत का शायद ही कोई उत्तम चरित्र महलों के भीतर पलकर चमका हो। सब के सब तूफान के भीतर से गुजरे हैं। पाठक महाभारत पढ़ते समय एक जादू-भरे वीरत्व के अरण्य में प्रवेश करता है जहाँ पद-पद पर विपत्ति है, पर भय नहीं है। (हजारीप्रसाद द्विवेदी)

 

निम्नलिखित पद्यांश की व्याख्या इस तरह कीजिए कि कवि का मंतव्य, प्रमुख शब्दों के अर्थ, भाव-पल्लवन एवं मुख्य विचार बिंदु स्पष्ट हो जाएँ:10

 

मुझे तीन शब्द दो कि मैं कविता कह पाऊँ।

एक शब्द वह जो न कभी जिह्वा पर लाऊँ,

और दूसरा : जिसे कह सकूँ

किन्तु दर्द मेरे से जो ओछा पड़ता हो।

और तीसरा : खरा धातु, पर जिस को पा कर पूछूँ————-

 क्या न बिना इसके भी काम चलेगा ? और मौन रह जाऊँ।   (अज्ञेय)

 

4-निम्नलिखित में से किन्हीं चार मुहावरों और लोकोक्तियों का अर्थ लिखकर वाक्य में प्रयोग कीजिये :8

(i) लोहा लेना

(ii) नाच न जाने आंगन टेढ़ा

(iii) छोटा मुँह बड़ी बात

(iv) दिन में तारे दिखना

(v) नाक पर मक्खी न बैठने देना

(vi) ऊँट के मुँह में जीरा।

 

5-निम्नलिखित में से किन्हीं तीन के विपरीतार्थक शब्द लिखिए :

(i) उत्थान

(ii) मूक

(iii) अचल

(iv) साधारण

(v) सजीव।

 

6-निम्नलिखित में से किन्हीं तीन वाक्यों के शुद्ध रूप लिखिए :

(i) विचारों का दुनिया बड़ी आकर्षक है।

(ii) सूरज पश्चिम में डूब गई और लालिमा फैल गया।

(iii) सिपाही का झुंड जा रहा है।

(iv) पंच परमेश्वर होता है।

(v) हम सोचा हूँ कि हम गाँव जाएंगे।

About

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

Leave a Reply

Your email address will not be published.