Home » Posts tagged "Hindi Letters" (Page 6)

Hindi Letter “Postman ke virudh shikayat patra”, “पोस्ट मैन के विरूद्व शिकायत पत्र ” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

पोस्ट मैन के विरूद्व शिकायत पत्र  Postman ke virudh shikayat patra                                                                                                           शान्ति कुंज, 13-ए, राजन स्ट्रीट, शामली, मुजफ्फरनगर (यू0पी0)   सेवा में,                    पोस्ट मास्टर,                    मुजफ्फरनगर (उ0प्र0) श्रीमान्,                    मैं आपका ध्यान अपने इलाके के पोस्टमैन की लापरवाही की ओर आकृष्ट कराना चाहता हूँ।                    कुछ सप्ताह से वह मेरे पत्रों को सीढ़ियों के नीचे मौजूद बच्चों के हाथों में थमा देता है अथवा गलत लोगों को दे देता।...
Continue reading »

Hindi Letter “Padosi se Shikayat Patra”, “पड़ोसी से शिकायत” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

पड़ोसी से शिकायत Padosi se Shikayat Patra                                                                              एस-5/3, अरविन्द घोष रोड,                                                                                                 बड़ा बाजार                                                                              कोलकता-7 (पश्चिमी बंगाल)                                                                                       25.11.– श्रीमान्,           आशा है कि आप मेरी असुविधा का ध्यान रखते हुए मेरे घर के द्वार के ठीेक सामने अपना स्कूटर न खड़ा किया करेगें। मैं समझता हूँ कि आप जहाँ भी स्थान पाते हैं अपना स्कूटर खड़ा कर देते हैं, लेकिन मेरा सुझाव है कि स्कूटर ऐसे स्थान पर...
Continue reading »

Hindi Letter “Ek Bbhavuk prem patra apni premika ke naam”, “एक भावुक प्रेम का पत्र अपनी पे्रमिका के नाम” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

एक भावुक प्रेम का पत्र अपनी पे्रमिका के नाम Ek Bbhavuk prem patra apni premika ke naam मेरी प्रियतमा राखी,           तुम्हें क्या कहकर सम्बोधन दूँ, मेरे पास शब्द ही नहीं हैं।           प्रियतमा तुम कैसी हो? कल रात मैंने तुम से सोते-सोते मुलाकात की थी, हाँ-हाँ स्वप्न में। तुम्हारे ख्वाब मुझे सोने नहीं देते। विश्वास करों मैं तुम्हारे बिना जल-बिन मछली की तरह तड़पता रहता हूँ। होली की प्रतीक्षा है...
Continue reading »

Hindi Letter “Ladki ki aur se prem patra ka uttar”, “लड़की की ओर से प्रेमोतर” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

लड़की की ओर से प्रेमोतर Ladki ki aur se prem patra ka uttar           मेरे जीवन,                    तुम्हारा अभी-अभी पत्र मिला। सचमुच। मैं कितनी खुश किस्मत हूँ कि तुम मुझे इतना अधिक चाहती हो। मेरे प्रिय मेरा विश्वास करना, मैं तुम्हें अपनी आँखों की ज्योेति से भी अधिक प्यार करती हूँ। मैं तुम्हारे प्यार में सिर से पाँव तक डूब चुकी हूँ। इस माह तुम यहाँ क्यों नहीं आ जाते? मेरे...
Continue reading »

Hindi Letter “Mangetar dwara likha gya prem patra”, “मंगेतर द्वारा लिखा गया प्रेम-पत्र” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

मंगेतर द्वारा लिखा गया प्रेम-पत्र Mangetar dwara likha gya prem patra प्रिये अनुराधा,                    इजाजत दो कि मैं स्वीकार कर सकूँ कि तुम्हंे हदय की गहराईयों से प्यार करता हूँ।                    मेरे इस प्यार के बदले तुम ठण्डेपन का इजहार न करो। अनुराधा मेरे प्यार की गहराईयों पर तुम क्षण भर के लिए कभी अविश्वास न करो। गहराई से, प्यार की आरजुआंे के साथ, निभीकता से कहता हूँ, तुम्हें बहुत प्यार...
Continue reading »

Hindi Letter “Ruthi Premika ko manane hetu patra”, “रूठी प्रेमिका को मनाने हेतु पत्र” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

रूठी प्रेमिका को मनाने हेतु पत्र Ruthi Premika ko manane hetu patra मेरे सपनों की रानी शोभा,           तुम मुझसे इतनी नाराज क्यों हो शोभा। मैंने तुम्हें प्रसन्न रखने के लिए कोई कसर नहीं उठा रखी। मेरा दोष केवल इतना है कि मैंने तुमसे प्यार किया है। मैं अपनी भूल स्वीकार करता हूँ। मैं ऐसी भूल को बार-बार दोहराऊँगा क्योंकि मैं तुम्हारे बगैर नहीं रह सकता। अगर तुम्हारी मुझ पर नाराजगी...
Continue reading »

Hindi Letter “Patni ka Pati ko Patra”, “पत्नी का पत्र पति के नाम” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

पत्नी का पत्र पति के नाम Patni ka Pati ko Patra मेरे प्रियतम शलभ,           मुझे क्षमा कर दो। कहना जितना आसान होता है, किसी बात को करना उतना ही कठिन होता है। मैं जितना तुम्हे भुलाना चाहती हूँ उतना ही तुम ज्यादा याद आते हो। प्रियतम मैंने तुम्हारे साथ जो भी समय गुजारे हैं वे तार में गुँथे हुए मोती के समान मेरे लिए हैं। मैं उन्हें हर समय गिना...
Continue reading »

Hindi Letter “Janam Din ke uphar ke liye chachaji ko patra”, “जन्मदिन के उपहार के लिए चाचाजी को पत्र ” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

जन्मदिन के अवसर पर भेंट के रूप में प्राप्त घडी़ के प्रति, विदेश में रह रहे चाचाजी को आभार पत्र Janamdin ke avsar par bhent ke roop me prapt ghadi ke prati, videsh me rah rahe chachaji ko aabhar patra   स्थान……………… दिनांक…………….. आदरणीय चाचाजी,           मैं अपने जन्मदिन के अवसर पर आपके उपहार को पाकर बहुत खुश हुँ। वह एक हाथ घडी़ है। मैंने उसकी आजमाईश कर ली है। वास्तव...
Continue reading »