Home » Posts tagged "Hindi Letters"

Hindi Letter “Aparyapt Jal-Vitran se hone Wali Asuvidhao ke liye Patra ”,”अपर्याप्त जल-वितरण से होने वाली असुविधाओं के लिए पत्र”.

patra lekhan
अपने नगर के महापौर को पत्र लिखकर नगर में नियमित एवं अपर्याप्त जल-वितरण से होने वाली असुविधाओं के प्रति उनका आकृष्ट किजिए।       सेवा  में   महापौर महोदय आगरा नगर निगम आगरा(उ.प्र.)   विषय: जलापूर्ति की समस्या     मान्यवर, मैं इस पत्र के माध्यम से आपका ध्यान हरिपर्वत क्षेत्र में हो रहे अनियमित एवं अपर्याप्त जल-वितरण से हो रही असुविधाओं की ओर आकर्षित कराना चाहता हूँ। इस क्षेत्र...
Continue reading »

Hindi Letter “Mohalle ke sameep Park ki Durdasha ki Aur Commissioner ka Dhyan Aakarshit karte hue Patra”,”मुहल्ले के समीप पार्क की दुर्दशा की ओर निगमायुक्त का ध्यान आकर्षित करते हूए पत्र”.

patra lekhan
आपके मुहल्ले के समीप बुद्धा पार्क की दुर्दशा की ओर निगमायुक्त का ध्यान आकर्षित करते हूए गौतम की ओर से पत्र लिखिए जिसमें पार्क समुचित रख-रखाव की व्यवस्था का आग्रह किया हो। सेवा में, निगमायुक्त, दिल्ली नगर निगम, टाउन हाॅल, नई दिल्ली। विषय: कृष्ण नगर के बुद्धा पार्क की दुर्दशा महोदय, मैं आपका ध्यान कृष्ण नगर के विवके मुहल्ले में बने ’बुद्धापर्क’ की दुर्दशा की ओर आकर्षित कराना चाहता हूँ। यह...
Continue reading »

Hindi Letter “Doordarshan ke Karyakramo ki samiksha karte hue patra likhiye”,”दूरदर्शन के महानिदेशक को दूरदर्शन के कार्यक्रमों की समीक्षा करते हुए एक पत्र लिखिए”.

दूरदर्शन के महानिदेशक को दूरदर्शन के कार्यक्रमों की समीक्षा करते हुए एक पत्र लिखिए।   सेवा में,   महानिदेशक दूरदर्शन केन्द्र नई दिल्ली।     विषय:    दूरदर्शन के कार्यक्रमों की समीक्षा। महोदय, निवेदन है कि मैं दूरदर्शन के कार्यक्रमों का नियमित दर्शक हूँ। दूरदर्शन पर आजकल अनेक धारावाहिक देखने को मिल रहे हैं। इनमें अनेक सीरियल जैसे- बालिका वधू, लाडो आदि कार्यक्रम उद्देश्यपूर्ण हैं। ये कार्यक्रम सामाजिक बुराइयों पर चोट कर...
Continue reading »

Hindi Letter “Rail me khane ke milavati saman ki Samasya ke liye Adhikshak ko Patra ”,”रेल में खाने के मिलावटी सामान की समस्या के लिए अधीक्षक को पत्र”.

रेल यात्रा के दौरान साधारण श्रेणी के यात्रियों एवं चलती गाड़ियों में मिलने वाली खान-पान की सामग्री संतोषजनक नहीं होती। इस समस्या की ओर अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट करने के लिए अधीक्षक, खान-पान विभान, रेल भवन, नई दिल्ली के नाम पत्र लिखिए।   सेवा में,   अधीक्षक, खान-पान विभाग, रेल भवन, नई दिल्ली।   विषय: रेल यात्रियों को मिलने वाली खान-पान की सामग्री का घटिया स्तर महोदय, मैं आपका ध्यान रेल-यात्रा...
Continue reading »

Hindi Letter “Khadya Padartho me milavat ki samasya ke liye aayukt ko patra”,”खाद्य पदार्थो में मिलावट की समस्या के लिए आयुक्त को पत्र”.

खाद्य पदार्थो में विशेषतः दूध और दूध से बनी वस्तुओं में मिलावट की समस्या विकट रूप धारण करती जा रही है। आपने प्रांत/नगर के खाद्य विभाग के आयुक्त को पत्र लिखकर उचित कार्यवाही के लिए अनुरोध कीजिए।   सेवा में,     आयुक्त महोदय, खद्य विभाग, जयपुर   विषयः खद्य-पदार्थो में मिलावट   मान्यवर, मैं आपका ध्यान जयपुर शहर में खद्य-पदार्थों विशेषताः दूध और दूध से बनी चीजों में मिलावट की...
Continue reading »

Hindi Letter “Dengue ke Badhte Prakop par chinta vyakt karte hue Swasthya Mantri ko Patra ”,”डेंगू के बढ़ते प्रकोप पर चिंता व्यक्त करते हुए स्वास्थ्य मंत्री को पत्र ”.

डेंगू के बढ़ते प्रकोप पर चिंता व्यक्त करते हुए स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखिए।   सेवा में,   स्वास्थ्य मंत्री, दिल्ली सरकार, दिल्ली।   विषय: डेंगू का बढता प्रकोप।   मान्यवर, मैं आपका ध्यान दिल्ली में निरंतर बढ़ते डेंगू के प्रकोप की ओर आकर्षित कराना चाहता हूँ। आप इस तथ्य से भली प्रकार अवगत है कि सितंबर मास में मलेरिया और डेंगू का प्रकोप प्रति वर्ष बढ़ जाता है। गत वर्ष...
Continue reading »

Hindi Letter “Mohalle me Park ki uchit Rak-Rakhav ke liye Nigam Aayukt ko Patra”,”मोहोंल्ले में पार्क की उचित रख-रखाव के लिए निगम आयुक्त को पत्र”.

अपने मोहल्ले के उपेक्षित पार्क के समुचित रख-रखाव की व्यवस्था करने के लिए निगम आयुक्त का ध्यान आकर्षित करते हुए पत्र लिखिए।   सेवा में,   निगमायुक्त महोदय, दिल्ली नगर निगम, टाउन हाॅल, दिल्ली।   विषय: जनकपुरी के पार्को का रख-रखाव।   मान्यवर, सविनय निवेदन यह है कि दिल्ली विकास प्राधिकरण द्वारा विकसित यह काॅलोनी सन् 1988 में दिल्ली नगर निगम को हस्तांतरित की जा चुकी है। बडे़ खेद का विषय...
Continue reading »

Hindi Letter “Khel-Kood ka saman mangwane hetu Pradhancharya ko Patra ”,”खेल-कूद का सामान मंगवाने हेतु प्रधानाचार्य को पत्र”.

विद्यालय में खेल-कुद की सामग्री की कमी को पूरा कराने के लिए प्रधानाचार्य को प्रार्थना-पत्र लिखिए।   सेवा में,   प्रधानाचार्य महोदय, केन्द्रीय विद्यालय, जनकपुरी, नई दिल्ली।   मान्यवर, सविनय निवेदन है कि इस वर्ष हमारे विद्यालय ने क्षेत्रीय खेल- प्रतियोमिताओं में पर्याप्त यश अर्जित किया है। इस सफलता से उत्साहित होकर विद्यालय के अनेक छात्र विभिन्न खेलों में भाग लेने के इच्छुक हैं। इससे पूर्व कि इन खेलों में भारी...
Continue reading »