Home » Posts tagged "Hindi essays" (Page 4)

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Ganga Ki Atmakatha”, “गंगा की आत्मकथा” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
गंगा की आत्मकथा Ganga Ki Atmakatha    मेरा नाम गंगा है। मैं ही हूँ पतित पावन गंगा। मेरी शोभा बढ़ाने मेरे किनारों पर कई तीर्थ स्थान बने हैं। मैं ही जन जन को पावन करती हूँ। वेदों के अनुसार मैं देवताओं की नदी हूँ। मैं पहले स्वर्ग में बहा करती थी, मेरा नाम अमृत था। एक दिन मेरे भक्त ने मेरी कड़ी तपस्या कर मुझे भू लोक पर आने को विवश...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Christmas – Ekta Ka Tyohar”, “क्रिसमस – एकता का त्यौहार” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
क्रिसमस – एकता का त्यौहार Christmas – Ekta Ka Tyohar   भारतवर्ष एक बड़ा विशाल देश है। इस देश में अनेक जातियों एवं धर्मों के लोग निवास करते हैं। धर्मों के अनुसार यहाँ पर्व एवं त्यौहार मनाए जाते हैं। क्रिसमस ईसाइयों का त्यौहार है। क्रिसमस को बड़ा दिन भी कहते हैं। ईसाई धर्म का मार्गदर्शन महात्मा ईसा मसीह ने किया था। महात्मा ईसा का जन्म 25 दिसंबर को येरुशलम के पास...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Eid – Bhaichare ka Tyohar ”, “ईद – भाईचारे का त्यौहार” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
ईद – भाईचारे का त्यौहार Eid – Bhaichare ka Tyohar  रमजान का महीना मुस्लिम भाइयों के लिए विशेष महत्व रखता है। माना जाता है कि यह महीना रहमतों व पाक से भरा हुआ होता है। ईद का अर्थ ही है खुशी जाहीर करना। सबसे ज्यादा खुशी तो उनको होती है जो कठिन परीक्षा देते हुए अपने एक महीने का रोजा रखते हैं। ऐसा माना जाता है कि महीने भर रोजा रखने...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Deepavali – Patakho ka Tyohar”, “दीपावली – पटाखों का त्यौहार” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
दीपावली – पटाखों का त्यौहार Deepavali – Patakho ka Tyohar त्यौहार खुशियाँ लाते हैं, साल में एक बार आते हैं और अपनी खट्टी मिठ्ठी यादें छोड़ जाते हैं। हिन्दू धर्म में तो त्यौहारों की अपनी मान्यताएँ भी हैं। हर त्यौहार के पीछे एक कथा है। चाहे अमीर हो या गरीब हर कोई सच्चे मन से त्यौहारों का स्वागत करते हैं। मानव जाति की तो मान्यता ही है कि एक त्यौहार हजारों...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Holi – Rango ka Tyohar”, “होली – रंगों का त्यौहार” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
होली – रंगों का त्यौहार Holi – Rango ka Tyohar   मानव जीवन में त्यौहारों का अपना महत्व है। त्यौहार जीवन की एकरसता को खत्म करने और उत्सव के द्वारा अपने में नयी स्फूर्ति हासिल करने के लिए मनाए जाते हैं। देश में मनाए जाने वाले हर त्यौहार के पीछे उसका अपना इतिहास व मान्यताएँ हैं। हमारे भारतवर्ष का एक और नाम भी है इसे हम त्यौहारों का देश भी कहते...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Samaya ka Mahatva ”, “समय का महत्व” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
समय का महत्व Samaya ka Mahatva  मानव जीवन में बीता हुआ सब कुछ लौट सकता है पर समय एक ऐसा आजाद पंछी है जो एक बार जिस राह से गुजर जाए, वहाँ दोबारा नहीं लौटता। समय अमूल्य धन है। यही जीवन है। इसका सदुपयोग जीवन का सदुपयोग माना गया है। साथ ही इसका विनाश यानी जीवन का विनाश। समय एक ऐसा है जिसको हमें उसके ही आकार में स्वीकारना पड़ेगा, न...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Vriksharopan”, “वृक्षारोपण” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
वृक्षारोपण Vriksharopan वृक्ष हमारे आश्रयदाता हैं। वे हमें दैहिक, दैविक व भौतिक तीनों तापों से मुक्ति दिलाने में सहायक हैं। हमारे प्राचीन धर्म-ग्रंथ और विज्ञान दोनों ही वृक्षों के विभिन्न प्रयोगों का गुणगान करते हैं। हिन्दू धर्मग्रंथों के अनुसार तो वृक्षों को दैवतुल्य समझना चाहिए। गीता में श्रीकृष्ण ने तो कहा भी है कि मैं वृक्षों में पीपल हैं। जिसका प्रमाण हमें मिलता है महात्मा बुद्ध से जिन्हें ज्ञान भी पीपल...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Paryavaran aur Pradushan”, “पर्यावरण और प्रदूषण” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
पर्यावरण और प्रदूषण Paryavaran aur Pradushan   विश्व की जटिलतम समस्याओं में से एक है पर्यावरण और प्रदूषण। मनुष्य अपने स्वार्थपूर्ति के लिए नित्य नए उपक्रमों की स्थापना करता जा रहा है जो उसे संपन्न तो बना ही रही है पर अंदर ही अंदर खोखली भी करती जा रही है। वह समय ज्यादा दूर नहीं जब इस धरती से मानव जाति का विनाश हो जाएगा। प्रदूषण क्या होता है और इसके...
Continue reading »

Latest Desk