Home » Posts tagged "Hindi essays" (Page 4)

Hindi Essay on “Harit Kranti” , ”हरित क्रान्ति” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
हरित क्रान्ति Harit Kranti   प्रस्तावना- हरित क्रान्ति से तात्पर्य एक ऐसी क्रान्ति से है, जो देश को खाद्य पदार्थों की दृष्टि से आत्मनिर्भर बनाती है। इस धरती पर अकेला भारत ही एक ऐसा देश है, जो कृषि-प्रधान देश के नाम से विख्यात है। लेकिन जब यही देश विदेशी आक्र्रमणों, जनसंख्या के तेजी से बढ़ने के नवीनतम उपयोगी औजारों व अन्य साधनों के प्रयोग न होने तथा विदेशी शासकों की सोची-समझी...
Continue reading »

Hindi Essay on “Dakiya – Postman” , ”डाकिया (पोस्टमैन) ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
डाकिया (पोस्टमैन)  Dakiya – Postman प्रस्तावना- पोस्टमैन केन्द्रीय सरकार का कर्मचारी होता है। वह जनता में लोकप्रिय होता है तथा डाक विभाग में कार्य करता है। अत्यधिक परिश्रम- वह खाकी यूनीफार्म पहनता है जो उसे अपने विभाग से मिलती है। वह अपने काम के प्रति बहुत परिश्रमी होता है। वहं दिन भर कठिन मेहनत करता है। सर्वप्रथम वह डाकखाने जाता है और अपने क्षेत्र के पत्रों को छांटता है, इसके बाद...
Continue reading »

Hindi Essay on “Ek Doctor” , ”एक डॉक्टर” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
एक डॉक्टर Ek Doctor प्रस्तावना- डॉक्टर को पेशा, आवश्यकता से अधिक, व्यस्तताओं से भरा पेशा होता है। यह पेशा इतनी जिम्मेदारी से भरा होता है कि भगवान के बाद जीवन और मृत्यु कर आस मरीज और उसके परिवारीजन इलाज करने वाले डॉक्टरपर ही लगा देते हैं। महत्वपूर्ण कार्य- असाध्य रोगों के इलाज के लिए, डॉक्टर की मरीज का मर्ज पकड़ने में अच्छे अनुभव के साथ एकाग्रचित्ता की भी आवश्यकता होती है।...
Continue reading »

Hindi Essay on “Internet ka Badhta Prasar” , ”इन्टरनेट का बढता प्रसार” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
इन्टरनेट का बढता प्रसार Internet ka Badhta Prasar प्रस्तावना- भारत मंे इन्टरनेट की स्थापना विदेश संचार निग लि0 के माध्यम 1995 ई0 में की गई। आज भारत में इन्टरनेट की उपयोगिता निरन्तर बढती जा रही है। आज भारत में इन्टरनेट के प्रयोगकर्ताओं की संख्या तकरीबन 38 लाख है। इन्टरनेट का आविष्कार – इन्टरनेट का आविष्कार 1885 ई0 में अमेरिकी रक्षा विभाग तथा वैल लैब्स ने किया था। यह एक सूचना नेटवर्क...
Continue reading »

Hindi Essay on “Robot” , ”रोबोट” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
रोबोट Robot प्रस्तावना-यूं तो मानव द्वारा अनेक आश्चर्यजनक आविष्कार किये जा चुके है जिनमें दूरदर्शन से लेकर आन्तरिक्ष यान तक सम्मिलित है, परन्तु मानव के द्वारा जो सर्वाधिक महत्वपुर्ण आविष्कार किया गया-वह कम्प्यूटर है। रोबोट कम्प्यूटर का ही दूसरा रूप् है जिसे मानव ने अपने लिये सुविधा जुटाने, सुगमता पैदा कारने तथा खतरों से बचे रहने के लिए बनाया है। जो मानव की ही तरह चलता-फिरता, देखता-सुनता, बोलता तथा कार्य करता...
Continue reading »

Hindi Essay on “Badhte Apradh” , ”बढ़ते अपराध” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
बढ़ते अपराध Badhte Apradh प्रस्तावना- आज बढती महंगाई, बेरोजगारी, फैशन की होड ने समाज के लोगों में काफी लोगों का कुण्ठा से भर दिया। ‘वो हमारे पास नहीं, जो पडोसी के पास है‘ इस सोच ने लोगों में मन की शान्ति छीन ली है; जिसके कारण लोग बेईमानी से धन कमाने की ओर उन्नमुख हो रहे है। बेईमानी की यह प्रवृत्ति अन्य अपराध को जन्म देती है। युवा वर्ग अपनी आवश्यकता...
Continue reading »

Hindi Essay on “Pradushan – Samasya Aur Samadhan” , ”प्रदुषण – समस्या और समाधान” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
प्रदुषण – समस्या और समाधान Pradushan – Samasya Aur Samadhan प्रस्तावना-वर्तमान समय में प्रदुषण ने एक भयानक रूप धारण किया हुआ है। आज देश के कोने-कोने में प्रदुषण फैलाव बढता जा रहा है जिसके कारण हजारों व्यक्ति बीमारी का शिकार हो रहे है। घनी आबादी वाले शहरों में स्वस्थ अॅक्सीजन मिलना कठिन हो रहा है, जिसकी वजह से श्वास व ह्रदय रोग बढ रहे है। सामान्यतः प्रदूषण की समस्या मूल रूप...
Continue reading »

Hindi Essay on “Pidhi ka Anter” , ”पीढ़ी का अन्तर” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
पीढ़ी का अन्तर Pidhi ka Anter प्रस्तावना- परिवार एक ईकाई और समाज का अंग होता है। परिवार बुजुर्गों, महिलाओं, युवा-युवतियों, बच्चों से मिलकर बनता है। कुछ केवल पति-पत्नी के रूप में मिलकर परिवार का श्रीगणेश करते हैं। नौकरी पेशा पति या पत्नी ऐसा ही परिवार आजकल देखने बढ़ने लगती है। बच्चे बड़े होने, पढ़ने-लिखने लगते हैं। फिर नौकरी, रोजगार, व्यवसाय या जीविकोपार्जन का मसला सामने आता है और युवा सदस्य अपनी...
Continue reading »