Home » Posts tagged "Hindi essays"

Hindi Essay on “Vidyarthi Jeevan Aur Anushasan” , ”विद्यार्थी जीवन और अनुशासन ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

विद्यार्थी जीवन और अनुशासन Vidyarthi Jeevan Aur Anushasan   मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। किसी समाज के निर्माण में अनुशसन की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। अनुशासन ही मनुष्य की श्रेष्ठता प्रदान करता है तथा उसे समाज में उत्तम स्थान दिलाने में सहायता करता है। विद्यार्थी जीवन में तो इसकी उपयोगिता और भी बढ़ जाती है क्योंकि यह वह समय होता है जब उसके व्यक्तित्व का निर्माण प्रारंभ होता है। दूसरे शब्दों...
Continue reading »

Hindi Essay on “Sah-Shiksha” , ”सहशिक्षा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

सहशिक्षा Sah-Shiksha सहशिक्षा से तात्पर्ण लडक़ों व लड़कियों का विद्यालय में एक साथ अध्ययन करना है। हमारे देश में अनेक रूढि़वादी लोग लंबे समय से सहशिक्षा का विरोध करते चले आ रहे हैं परंतु समय के बदलाव के साथ अब यह धीरे-धीरे कार्यान्वित हो रही है। इसमें विज्ञान का योगदान अधिक है जिसने मनुष्यों को अपनी पुरानपंथी सोच में बदलाव लाने का महती प्रयास किया है। सहशिक्षा का इतिहास हमारे देश...
Continue reading »

Hindi Essay on “Shiksha aur Naitik Mulya” , ”शिक्षा और नैतिक मूल्य” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

शिक्षा और नैतिक मूल्य Shiksha aur Naitik Mulya जब हम शिक्षा की बात करते हैं तो सामान्य अथो्रं में यह समझा जाता है कि इसमें हमें वस्तुगत ज्ञान होता है तथा जिसके बल पर कोई रोजगार प्राप्त किया जा सकता है। ऐसी शिक्षा से व्यक्ति समाज में आदरणीय बनता है। समाज और देश के लिए इस ज्ञान का महत्व भी है क्योंकि शिक्षित राष्ट्र ही अपने भविष्य को संवारने में सक्षम...
Continue reading »

Hindi Essay on “Shiksha ka Maulik Adhikar” , ”शिक्षा का मौलिक अधिकार” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

शिक्षा का मौलिक अधिकार Shiksha ka Maulik Adhikar हमारे देश का संविधान विश्व का सबसे विस्तृत संविधान है। देश की स्वतंत्रता के 52 वर्षों तक हम शिक्षा को वह महत्व नहीं दे पाए जो उसे मिलना चाहिए। देश का प्रत्येक पांचवां बच्चा अशिक्षित है। बड़ी ही दुर्भाज्यपूर्ण बात है कि हमारे देश में आज भी लगभग 15 करोड़ बच्चे अशिक्षित हैं। इसका कारण यह है कि प्रतिवर्ष विभिन्न कारणों से लगभग...
Continue reading »

Hindi Essay on “Bharat ki vartman Shiksha Niti” , ”भारत की वर्तमान शिक्षा नीति” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

भारत की वर्तमान शिक्षा नीति Bharat ki vartman Shiksha Niti शिक्षा किसी राश्ट्र अथवा समाज की प्रगति का मापदंड है। जो राष्ट्र शिक्षा को जितना अधिक प्रोत्साहन देता है वह उतना ही विकसित होता है। किसी भी राष्ट्र की शिक्षा नीति इस पर निर्भर करती है कि वह राष्ट्र अपने नागरिकों में किस प्रकार की मानसिक अथवा बौद्धिक जागृति लाना चाहता है। इसी नीति के अनुसार वह अनेक सुधारों और योजनाओं...
Continue reading »

Hindi Essay on “Sayukt Rashtra Sangh Aur Vartman Vishv” , ”संयुक्त राष्ट्र संघ और वर्तमान विश्व” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

संयुक्त राष्ट्र संघ और वर्तमान विश्व Sayukt Rashtra Sangh Aur Vartman Vishv अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य में द्वितीय विश्व युद्ध का सबसे बड़ा योगदान संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना के रूप में सामने आया। 24 अक्तूबर 1945 ई. को स्थापित इस विश्व संस्था का मुख्यालय उत्तरी अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में है। इस संस्था के गठन में अमरीका, रूस, इंज्लैंड, फ्रांस, चीन आदि देशों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। तब से लेकर अब...
Continue reading »

Hindi Essay on “Jal hi Jeevan hai” , ”जल ही जीवन है” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

जल ही जीवन है Jal hi Jeevan hai क्षिति, जल, पावक, गगन और समीर ये पांच तत्व हमारे धर्मग्रंथों में मौलिक कहे गए हैं तथा हमारी शरीर रचना में इनकी समान रूप से भूमिका होती है। इनमें वायु और जल ये दो ऐसे तत्व हैं जिनके बिना हमारे जीवन की कल्पना एक क्षण भी नहीं की जा सकती। जीवों को जिस वस्तु की जरूरत जिस अनुपात में है, प्रकृति में वे...
Continue reading »

Hindi Essay on “Bharat me Paryatan Vyavasaya” , ”भारत में पर्यटन व्यवसाय” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

भारत में पर्यटन व्यवसाय Bharat me Paryatan Vyavasaya   पयर्टन आदिकाल से ही मनुष्यों का स्वभाव रहा है। घूमना-फिरना भी मनुष्य के जीवन को आनंद ससे भर देता है। इसका पता लोगो ंने पहले ही लगा लिया था। पहले लोग पैदल चलकर या समुद्र मार्ग से लंबी-लंबी दूरियां तय कर अपने भ्रमण के शौक को पूरा करते थे। कुद लोग ऊंटों, घोड़ों आदि पर चढक़र समूह यात्रा करते थे, हालांकि ऐसी...
Continue reading »