Home » Posts tagged "Hindi Essay"

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Tyoharo ka Mahatva”, “त्योहारों का महत्व” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

त्योहारों का महत्व Tyoharo ka Mahatva                  हमारे जीवन में पर्वों का विशेष महत्त्व है। ये पर्व हमारी संस्कृति की पहचान हैं। भारत भूमि महान है। यहाँ हर तिथि को कोई न कोई पर्व पड़ता रहता है। इन पर्वों के साथ एक विशेष बात जुड़ी है और वह है- लोककथाएँ और मनोरंजन। पर्वों पर तरह-तरह की कलाओं का प्रदर्शन होता है। इन कलाओं में हमारी संस्कृति की झलक मिलती है। ये...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Vyayam ke Labh”, “व्यायाम के लाभ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

व्यायाम के लाभ Vyayam ke Labh   ‘‘धर्मार्थकाममोक्षणाम् आरोग्यं मूलमुत्तमम्’’                 महर्षि चरक ने लिखा है कि धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष इन चारों का मूल आधार स्वास्थ्य ही है। यह बात अपने में नितांत सत्य है। मानव जीवन की सफलता धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष प्राप्त करने में ही निहित है, परंतु सबकी आधारशिला मनुष्य का स्वास्थ्य है, उसका निरोग जीवन है। रूग्ण और अस्वस्थ मनुष्य न धर्मचिन्तन कर सकता है,...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Vidyarthi Aur Anishashan”, “विद्यार्थी और अनुशासन” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

विद्यार्थी और अनुशासन Vidyarthi Aur Anishashan                 प्रासाद की चिरस्थिरता और उसकी दृढ़ता जिस प्रकार आधारशिला की मजबूती पर आधारित है, लघु पादपों का विशाल वृक्षत्व जिस प्रकार बाल्यावस्था के सिंचन और संरक्षण पर आश्रित होता है, उसी प्रकार युवक की सुख-शांति में समृद्धिशालिता का संसार छात्रावस्था  पर आधारित होता है। यह अवस्था नवीन वृक्ष की मृदु और कोमल शाखा है, जिसे अपनी मनचाही अवस्था में सरलता से मोड़ा जा सकता...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Vigyapan Labh Ya Haniya”, “विज्ञापन: लाभ या हानियाँ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

विज्ञापन: लाभ या हानियाँ Vigyapan Labh Ya Haniya                 ‘विज्ञापन’ का उद्देश्य है कि किसी वस्तु या वस्तुओं को व्यावसायिक, राष्ट्रीय, सामाजिक, सांस्कृतिक, कलात्मक, मांगलिक, साहत्यिक तथा ऐतिहासिक दृष्टि से लोकप्रिय बनाने की प्रक्रिया को त्वरित गति प्रदान की जाये अर्थात् इन सबसे संबद्ध वस्तुओं को जनमानस में एक विशिष्ट छवि के रूप में अंकित किया जाये। विज्ञापन यह ज्ञापित करता है कि अमुक वस्तु क्यों ग्रहणीय है और ऐसा कर...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Deshatan”, “देशाटन” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

देशाटन Deshatan                 देशाटन और पर्यटन- जैसा कि स्पष्ट है दोनों ही शब्द भ्रमण से संबंध रखते हैं। विभिन्न देशों और देश के विभिन्न स्थानों का भ्रमण देशाटन और पर्यटन कहलाता है। मानव की जिज्ञासा, महत्त्वाकांक्षा, सौंदर्यप्रियता और ज्ञान की प्रवृत्तियाँ उसमें देशाटन और पर्यटन की रूचि जागृत करती हैं। अपने आसपास के भौगोलिक सौंदर्य और पर्यावरण को नित्य प्रति देखते और परखते हुए उसमें नए-नए स्थानांे के प्रति उत्सुकता स्वाभाविक...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Loktantra Ka Mahatva”, “लोकतंत्र का महत्त्व” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

लोकतंत्र का महत्त्व Loktantra Ka Mahatva                 विश्व में अनेक शासन प्रणालियाँ हैं। उनमें लोकतंत्र सर्वश्रेष्ठ शासन-प्रणाली मानी जाती है। अब्राहम लिंकन ने लोकतंत्र या प्रजातंत्र की परिभाषा इस प्रकार दी है- ‘‘लोकतंत्र जनता के लिए, जनता द्वारा जनता का शासन हैं।’’                 जाॅर्ज बर्नार्ड शाॅ के शब्दों में- ‘‘प्रजातंत्र एक सामाजिक व्यवस्था है, जिसका लक्ष्य सभी लोगों का यथासंभव अधिक से अधिक कल्याण करना है।’’                 लोकतंत्रात्मक शासन-पद्धति में जनता...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Samachar Patra aur Unki Upyogita”, “समाचार -पत्र और उनकी उपयोगिता” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

समाचार -पत्र और उनकी उपयोगिता Samachar Patra aur Unki Upyogita मनुष्य के हृदय में कौतूहल और जिज्ञासा दो ऐसी वृत्तियाँ हैं, जिनसे प्रेरित होकर वह संसार की नित्य नवीन घटने वाली घटनाओं से परिचित होना चाहता है। वह जानना चाहता है कि आज अपने देश में ही नहीं, अपितु विश्व के कोने-कोने में क्या हो रहा है। व्यापारी व्यापार के विषय में नए-नए भावों को, समाजशास्त्री समाज की नई व्यवस्थाओं को,...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Mahanagriya Jeevan”, “महानगरीय जीवन” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

महानगरीय जीवन Mahanagriya Jeevan                 वर्तमान समय में भारत के अनेक प्रमुख नगर महानगरों में परिवर्तित होते जा रहे हैं। एक नई महानगरीय सभ्यता पनपती जा रही है। महानगरों का जीवन जहाँ एक ओर आकर्षित करता है, वहीं वह अभिशाप से कम नहीं है। आधुमिकता की चमक-कदम इन महानगरों में दृष्गिोचर होती है। यह आकर्षक समान्य नगर-कस्बे एवं गाँवों के लोगों को महानगर की ओर खींचता है, पर यहाँ की समस्याएँ...
Continue reading »