Home » Languages » Hindi Essay on “Desh Prem” , ” देश-प्रेम ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essay on “Desh Prem” , ” देश-प्रेम ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

देश-प्रेम

      देश-प्रेम का अर्थ – देश-प्रेम का अर्थ है-देश से लगाव | मनुष्य जिस देश में जनम लेता है, जिसमें निवास करता है, जिसका अन्न खाकर बड़ा होता है, उसके प्रति लगाव होना स्वाभाविक है |

      देश-प्रेम में त्याग – सच्चा देश-प्रेमी के लिए अपना तन-मन अर्पित कर देना चाहता है | अमेरिका के देशभक्त राष्टरपति अब्राहिम लिंकिन ने देशवासियों को यही संदेश दिया था – “मेरे देश्वासियो ! यह मत सोचो कि अमेरिका ने तुम्हारें लिए क्या किया है | तुम यह सोचो कि तुमने अमेरिका के लिए किया है ?”

      एक पवित्र भावना – देश-प्रेम एक पवित्र भावना है ; निस्वार्थ प्रेम है, दीवानगी है | भगतसिंह को देश-प्रेम के बदले क्या मिला फाँसी ! सुभाष को क्या मिला मौत ! गाँधी को क्या मिला गोली | फिर भी सारा राष्ट्र इन महापुरुषों के बलिदान पर नाज़ करता है | देश के लिए बलिदान हो जाने से बढकर संसार में और कोई गौरव नहीं है |

      देश-प्रेमी का जीवन-देश के लिए – देश-प्रेमी के लिए सव्देश पर मर जाना ही एक ध्येय  नहीं है | उसके जीवन का एक-एक शण देश-हित में लगता है | मुंशी प्रेमचंद लिखते है – “देश का उद्धार विलासियों के हाथ से नहीं हो सकता ; उसके लिए सच्चे त्याग होना चाहिए |”

      देश-प्रेमियों की गौरवशाली परंपरा – भारतवर्ष देशभक्तों, संतों, महापुरषों का जनक है | यहाँ प्रारंभ से ही चाणक्य, चन्द्रगुप्त, शिवाजी, महाराणा प्रताप, तिलक, गोखले, मालवीय, आज़ाद, सुभाष आदि न जाने कितने महापुरषों ने बड़-चड़कर देश-प्रेम का परिचय दिया है | रानी लक्ष्मीबाई, सरोजिनी नायडू आदि नारियों ने देश-प्रेम में प्रशंसनीय भूमिका निभाई है | प्रोयोगशाला में दिन-रात एक करने वाला वेज्ञानिक, घायल-पीड़ित देशवासियों को रोग से मुकित दिलाने वाला | चिकित्सक, देश के लिए बड़े-बड़े बाँध, ताप-घर, बिजली-घर बनाने वाला इंजिनियर; ठेकेदार; व्यापारी; मजदुर; कारीगर भी देश-प्रेमी है, अगर वह हर कम में देश के गौरव को बढाने की बात सोचता है | देश को आगे बढाने की भावना से किया गया प्रत्येक कार्य देशभक्ति का पवित्र कार्य है |

      देश-प्रेम-सर्वोच्च भावना – देश-प्रेम धन, दौलत, स्म्रीदी, सुख, वैभव-सबसे बड़ी भावना है | जैसे अपनी माँ गरीब, काली, करूप होते हुए भी सबसे प्यारी लगती है, उसी प्रकार अपने देश संसार भर की सुषमाओं से बढकर प्यारा लगता है |

      देश-प्रेम की अनिवायर्ता – देश-प्रेम वह धागा है जिससे राष्ट्र के सभी मोती आपस में गुथें रहते है, सारे नागरिक देश से जुड़े रहते है | देश को कहीं भी चोट लगती है तो समूचे देश सिहर उठता है | अगर देशवासियों में प्रबल देश-प्रेम हो तो कोई विदेशी बुरी नजर से भारत को और आँख उठाकर नहीं देख सकता |

About

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

commentscomments

  1. Adarsh sharma says:

    It is very helpful for my studies and writing essays

  2. suhani kushwaha says:

    It was very helpful to complete my h.w. Tanqs a Lott…

  3. suhani kushwaha says:

    It helped me a lot to complete my h.w. Tanqs a Lott…

  4. Aman Yadav says:

    IT IS VERY GOOD AS WELL AS HELPFUL TO MY STUDIES.

  5. Abrisam says:

    This essay help me to complete my work on desh prem.thanks a lot…..

  6. Suchand Murmu says:

    I love it.It is very helpful.It is too good.☺☺☺☺☺☺☺☺☺

  7. Aditya Verma says:

    Its helpful for me as I my homework was completed and my teacher have me 8 essays to write

  8. Naman says:

    Nice
    Helpful

  9. Manish says:

    It Is Too Short BUT….
    BRILLIANT.. 😃
    👍GOOD JOB. 👍

  10. Nandiniarora says:

    Thanku so much google it help me to complete my daughters home work

  11. ameyagupta says:

    im loving it

  12. ameyagupta says:

    very good thoughts

  13. Dev valecha says:

    It was so short but it waa so helpful for me😍😍😍

  14. kirat says:

    nice but short

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *