Home » Archive by category "Languages" (Page 543)

Hindi Essay on “Berojgari ” , ” बेरोज़गारी : समस्या और समाधान” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

बेरोज़गारी : समस्या और समाधान             बेकारी की समस्या और अभिप्राय – आज भारत के सामने जो समस्याएँ कण फैलए खड़ी हैं, उनमें से एक चिंतनीय समस्या है – बेकारी | लोगों के पास हाथ हैं, पर काम नहीं है; प्रशिक्षण है, पर नौकरी नहीं है |             आज देश में प्रशिक्षित और अप्रशिक्षित-दोनों प्रकार के बेरोज़गारों की फौज़ जमा है | फैक्ट्रियों, सड़कों, बाज़ारों में भीड़ है | शहरों में...
Continue reading »

Hindi Essay on “Sampradayikta” , ” सांप्रदायिकता : एक अभिशाप ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

निबंध नंबर : 01  सांप्रदायिकता : एक अभिशाप             सांप्रदायिकता का अर्थ और कारण – जब कोई संप्रदाय स्वयं को सर्वश्रेष्ठ और अन्य स्म्प्दयों को निम्न मानने लगता है, तब सांप्रदायिकता का जन्म होता है | दूसरी तरफ भी कम अंधे लोग नहीं होते | परिणामस्वरूप एक संप्रदाय के अंधे लोग अन्य धर्मांधों से भिड पड़ते है और सारा जन-जीवन लहूलुहान कर देते हैं | इन्हीं अंधों को फटकारते हुए महात्मा...
Continue reading »

Hindi Essay on “Shahri Jeevan mein Badhta Pradushan ” , ” शहरी जीवन में बढ़ता प्रदूषण ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

शहरी जीवन  में बढ़ता प्रदूषण             शहरों का निरंतर विस्तार और बढ़ती जनसँख्या – आज की सभ्यता को शहरी सभ्यता को शहरी सभ्यता कह सकते हैं | यद्दपि  भारत की अधिकांश जनता गाँवों में बस्ती है किन्तु  उसके हृदयों में बसते – शहर बढ़ रहे है, साथ-साथ जनशंख्या भी तेजी से बढती रही है | हर वर्ष भारत में एक नया ऑस्ट्रेलिया और जुड़ जाता है |             शहरों में बढ़ते...
Continue reading »

Hindi Essay on “Pradushan, Ek Samasya ” , ” प्रदूषण : एक समस्या ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

प्रदूषण : एक समस्या             पर्यावरण का अर्थ – पर्यावरण का अर्थ है – हमारे चारों और का वातावरण | दुर्भाग्य से हमारा यही पर्यावरण आज दूषित हो गया है | प्रदूषण मुख्यत : तीन प्रकार का होता है – वायु-प्रदूषण, जल-प्रदूषण तथा ध्वनि-प्रदूषण |             प्रदूषण के कारण – प्रदूषण का जन्म अंधाधुंध वैज्ञानिक प्रगति के कारण हुआ है | जब से मनुष्य ने प्रकृति के साथ मनचाही छेड़छाड़ की...
Continue reading »

Hindi Essay on “Dahej Pratha ” , ” दहेज-प्रथा : एक गंभीर समस्या ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
दहेज-प्रथा : एक गंभीर समस्या Dahej Pratha Ek Gambhir Samasya   निबंध नंबर – 01 दहेज का बदलता स्वरूप –  भारतीय नारी का जीवन जिन समस्याओं का नाम सुनते ही कॉप उठता है – उनमें सबसे प्रमुख है – दहेज | प्ररंभ में दहेज़ कन्या के पिता दुवरा स्वेच्छा-से  अपनी बेटी को दिया जाता था | विवाह के समय बेटी को प्रोमोपहार देना अच्छी परंपरा थी | आज भी इसे प्रेम-उपहार...
Continue reading »

Hindi Essay on “Chatra Aur Shikshak ” , ” छात्र और शिक्षक ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

छात्र और शिक्षक             घर-प्रारंभिक पाठशाला, माता-पिता प्रथम शिक्षक – पूरा जीवन एक विदायक है | हर व्यक्ति विदार्थी भी है और शिक्षक भी | कोई भी मनुष्य किसी से कुछ सिख सकता है | बच्चे के लिए सबसे पहली पाठशाला होती है – घर | माता-पिता ही उसके प्रथम शिक्षक होते हैं | वे उसे ईमानदारी, सच्चाई या बेईमानी का मनचाहा पथ पढ़ा सकते हैं | वास्तव में माता-पिता जैसा...
Continue reading »

Hindi Essay on “Mere Jeevan Ka Lakshya ” , ” मेरे जीवन का लक्ष्य या उदेश्य ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

मेरे जीवन का लक्ष्य या उदेश्य MereJeevan ka Lakshya निबंध नंबर – 01       लक्ष्य का निश्चय – मैं दसवीं  कक्षा का छात्र हूँ | मेरे मन में एक ही सपना है कि मैं इंजीनियर बनूँगा |       लक्ष्यपूर्ण जीवन के लाभ – जब से मेरे भीतर यह सपना जागा है, तब से मेरे जीवन में अनेक परिवर्तन आ गये हैं  | अब मैं अपनी पढाई  की और अधिक ध्यान देने लगा हूँ...
Continue reading »

Hindi Essay on “Meri Priya Pustak” , ” मेरी प्रिय पुस्तक ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

मेरी प्रिय पुस्तक    मेरी प्रिय पुस्तक – कुरुक्षेत्र – मेरी सबसे प्रिय पुस्तक है – रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की ‘कुरुक्षेत्र’ | यह युद्ध और शांति का समस्या पर आधारित है | इसमें महाभारत के उस प्रसंग का वर्णन है जब युद्ध के समाप्त होने पर भीषण शर-शय्या पर लेते हुए हैं | उधर पांडव अपनी जीत पर प्रसन्न हैं | परंतु धर्मराज युधिष्टर इतने लोगों की मृत्यु और बरबादी पर...
Continue reading »