Home » Archive by category "Languages" (Page 457)

Hindi Essay on “Vigyaan ki Krantikari Uplabhdhiyan , विज्ञान की क्रांतिकारी उपलब्धियां” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

विज्ञान की क्रांतिकारी उपलब्धियां जब भी विज्ञान शब्द की बात होती है लोग आधुनिक आविष्कारों के बारे में सोचने लगते हैं लेकिन इसका इतिहास हजारों वर्ष पुराना है। विज्ञान प्रकृति के हर वस्तु में विद्यमान है। विज्ञान संसार की सबसे अनमोल उपलब्धि है। जब मानव विज्ञान से परिचित नहीं था, उसका जीवन पशु के समान था। मानव पशुओं की भांति जंगलों और गुफाओं में रहता था। भोजन के रूप में फल-फूल,...
Continue reading »

Hindi Essay on “Yadi mein Mukhyamantri hota, यदि मैं मुख्यमंत्री होता/होती” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

यदि मैं मुख्यमंत्री होता/होती वैसे तो मुझे राजनीति बिलकुल पसंद नहीं है लेकिन आज के परिप्रेक्षय में मैं अपने प्रदेश का मुख्यमंत्री बनकर अपने राज्य के लिए बहुत कुछ करना चाहता हूँ। मैं झारखंड जैसे खनन और प्राकृतिक धन-सम्पदा से परिपूर्ण राज्य का निवासी हूँ और ऐसे में अपने प्रदेश को पिछड़ा हुआ देखकर बहुत ही निराश हो जाता हूँ। अतः मैं मुख्यमंत्री बनना चाहता हूँ। मैं मुख्य मंत्री ही इसलिए...
Continue reading »

Hindi Essay on “Mahngai ek samasya , महंगाईः एक समस्या” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

महंगाईः एक समस्या महंगाई आज हर किसी के मुख पर चर्चा का विषय बन चुका है। विश्व का हर देश इस से ग्रसित होता जा रहा है। भारत जैसे विकासशील राष्ट्रों के लिए तो यह चिंता का विषय बनता जा रहा है। महंगाई ने आम जनता का जीवन अत्यन्त दुष्कर कर दिया है। आज दैनिक उपभोग की वस्तुएं हों अथवा रिहायशी वस्तुएँ , हर वस्तु की कीमत दिन-व-दिन बढ़ती और पहुँच...
Continue reading »

Hindi Essay on “Swadhinta ka Adhikar , स्वाधीनता का अधिकार” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

स्वाधीनता का अधिकार स्वाधीनता हर मनुष्य का जन्मसिद्ध अधिकार है। इसको पाने के लिए यदि मनुष्य को लड़ना भी पड़े तो सदैव तत्पर रहना चाहिए। पराधीनता वो अभिशाप है जो मनुष्य के आचार-व्यवहार उसके परिवेश, समाज, मातृभूमि और देश को गुलाम बना देते हैं, फिर चाहे तो कैसी भी गुलामी रही हो। पिंजरे में बंद पक्षी से अधिक आजादी और स्वच्छंदता का महत्व कौन समझ सकता है ? “पराधीन सपनेहूं सुख...
Continue reading »

Hindi Essay on “Shubhash Chander Bose , श्री सुभाष चन्द्र बोस ‘‘एक करिश्माई व्यक्तित्व’’” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

श्री सुभाष चन्द्र बोस ‘‘एक करिश्माई व्यक्तित्व’’ सुभाषचन्द्र बोस भारत के महान देशभक्त थे। भारत के स्वतंत्रता के लिए संघर्षरत सेनानियों में जब भी गिनती की जाएगी, इन्हें सर्वोच्च स्थान प्राप्त होगा। अद्भुत देशप्रेम एवं निश्ठा के कारण समस्त विश्व में आज भी इन्हें बड़े सम्मान के साथ याद किया जाता है। भारतवासियों को ब्रिटिश शासकों के खिलाफ उनकी शक्ति का अहसास सर्वप्रथम इनके ही नेतृत्व में हुआ था। सुभाषचन्द्र बोस...
Continue reading »

Hindi Essay on “Diwali , दीपावली” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

दीपावली दीपावली दीपों का त्योहार है। प्रतिवर्ष पूरे भारत सहित विश्व को कोने-कोने में हिन्दू धर्मावलम्बियों द्वारा इस पर्व को पूरे हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। इस त्योहार का हिन्दू धर्म में अत्यंत महत्व है। इसे प्रकाश का त्योहार भी कहा जाता है। प्रतिवर्ष आश्विन मास की अमावश्या को दीप जलाकर और पटाखे छोड़ कर इसका आनंद लेते हैं। दीपावली क्यों मनाया हटा है इसके पीछे अनेक पौराणिक कथाएँ प्रचलित...
Continue reading »

Hindi Essay on “Computer, कम्प्यूटर” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

कम्प्यूटर कम्प्यूटर का आविष्कार मानव की सबसे अद्भूत उपलब्धि थी। वैसे तो मानव द्वारा अनेक प्रकार के आविष्कार किए गए और हर आविष्कार अपने महत्व से जाना जाता है, अपितु कम्प्यूटर के आविष्कार ने पूरे विश्व की कायाकल्प ही कर दी। आज के दौड़ती भागती जिंदगी में कम्प्यूटरर मानवीय जीवन का एक अभिन्न अंग बन चुका है। सुबह से लेकर रात तक हम अपने कार्यकलापों पर नजर डालें तो पाएंगे कि...
Continue reading »

Hindi Essay on “Bhrashtachar ek samasya , भ्रष्टाचार एक समस्या” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

निबंध नंबर : 01  भ्रष्टाचार एक समस्या  Bhrashtachar Ek Samasya भ्रष्टाचार से तात्पर्य ऐसे आचरण से है जिसमें मनुष्य भ्रष्ट आचरण करने को प्रेरित होता है अथवा उसे प्रोत्साहित करता है। यह मानव का सहज गुण है। लोग इससे शायद ही अछुते रह पाएँ हो वे किसी न किसी रूप में दैनिक भ्रस्टाचार के अवश्य साक्षी होते हैं। आज पूरे विश्व का शायद ही कोई देश बचा हो जो भ्रष्टाचार से...
Continue reading »