Home » Archive by category "Languages" (Page 443)

Hindi Essay on “Bhrashtachar ek samasya , भ्रष्टाचार एक समस्या” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

निबंध नंबर : 01  भ्रष्टाचार एक समस्या  Bhrashtachar Ek Samasya भ्रष्टाचार से तात्पर्य ऐसे आचरण से है जिसमें मनुष्य भ्रष्ट आचरण करने को प्रेरित होता है अथवा उसे प्रोत्साहित करता है। यह मानव का सहज गुण है। लोग इससे शायद ही अछुते रह पाएँ हो वे किसी न किसी रूप में दैनिक भ्रस्टाचार के अवश्य साक्षी होते हैं। आज पूरे विश्व का शायद ही कोई देश बचा हो जो भ्रष्टाचार से...
Continue reading »

Hindi Essay on “Lal Bahadur Shastri , लाल बहादुर शास्त्री” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
निबंध नंबर : 01  लाल बहादुर शास्त्री  Lal Bahadur Shastri लाल बहादुर शास्त्री जी जिन्हें आप और हम भारत के दूसरे प्रधानमंत्री का तरह याद रखे हुए हैं । लाल बहादुर शास्त्री जी ने स्वतंत्रता संग्राम में अहम रोल अदा किया, उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे और 1964 में देश के दूसरे प्रधानमंत्री बने 1966 में हुए पाकिस्तान के साथ युद्ध में उनके निर्णयों की वजह से भारत ने पाकिस्तान को मार...
Continue reading »

Hindi Essay on “Kash mein vriksh hota, काश मैं वृक्ष होता” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

काश मैं वृक्ष होता वृक्ष प्रकृति की सबसे अनमोल कृति है। पृथ्वी पर जीवन संभव हो पाया है क्योंकि यहाँ वन मौजूद है। पृथ्वी की अनोखी एवं मनमोहक छटा का कारण पृथ्वी पर पाए जाने वाले वृक्षों एवं पौधों की सैकड़ों प्रजातियां हैं। यह एक महत्वपूर्ण कारण है कि मैं भी वृक्ष के रूप में प्रकृति का हिस्सा बनना चाहता हूँ । यदि मैं वृक्ष होता तो अन्य वृक्षों की तरह...
Continue reading »

Hindi Essay on “Bal Shram , बाल श्रम” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
बाल श्रम Bal Shram   निबंध नंबर :-01 बाल श्रम से तात्पर्य ऐसे कार्यों से है। जो अवयस्क बच्चों से लिया जाता है। बाल श्रम भारत जैसे विकासषील देष के लिए एक राष्ट्रीय समस्या है। बाल श्रम के अंतर्गत वैसे सारे कार्य आते हैं जो बच्चों से स्वेच्छा अथवा जबरन कराए जाते हैं। आज विश्व के अनेक राष्ट्रों ने बाल श्रम व उत्पीड़न से निबटने के लिए अनेक कानून बनाए हैं।...
Continue reading »

Hindi Essay on “Din-Pratidin Badhta Pradushan , दिन-प्रतिदिन बढ़ता प्रदुषण” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

दिन-प्रतिदिन बढ़ता प्रदुषण प्रदुषण ने आज समस्त संसार को अपने आगोश में ले लिया है। संसार का शायद ही कोई ऐसा भाग बचा हो जो प्रदुषण के प्रकोप से से अछुता हो। पर्यावरण में मानव के अति हस्तक्षेप ने तो मानव के अस्तित्व को ही खतरे में ला खड़ा किया है। आज घर हो या बाहर सर्वत्र मानवीय कियाकलापों ने प्रदुषण का प्रसार कर रखा है। वायु प्रदुषण एवं जल प्रदुषण...
Continue reading »

Hindi Essay on “Global Warming ke Khatre , ग्लोबल वार्मिंग के खतरे” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

ग्लोबल वार्मिंग के खतरे ग्लोबल वार्मिंग अर्थात् विश्वव्यापी तापक्रम वृद्धि से तात्पर्य विश्व के औसत तापक्रम में आई वृद्धि से है। आज पूरे विश्व के लिए यह चिंता का विषय बन चुका है। ग्लोबल वार्मिंग के अंतर्गत अनावश्यक तापक्रम वृद्धि से उत्पन्न विश्वव्यापी खतरों को चिन्हित किया जाता है। विश्व के अधिकांश देशों ने ग्लोबल वार्मिंग के खतरे को भाँप लिया है। ग्लोबल वार्मिंग ने अपनी प्रचंडता का प्रदर्शन करना प्रारंभ...
Continue reading »

Hindi Essay on “Mere Sapno Ka Bharat , मेरे सपनों का भारत Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
मेरे सपनों का भारत भारत हमारी जन्म एवं कर्मभूमि है। भिन्न-भिन्न जाति वर्ग के लोगों के बीच इस देश ने अपनी पारंपरिक सभ्यता-संस्कृति एवं सर्वधर्मसहिष्णुता की भावना के कारण विश्व में अपनी अनूठी पैठ बना रखी है। भारत सदियों से विश्व का मार्गदर्शक बना हुआ है। ऐसे में देश की प्रतिष्ठा दिन-व-दिन धूमिल होती जा रही है। जहां भारत की सभ्यता-संस्कृति तथा परम्पराओं की पूरे विश्व में प्रशंसा की जाती है...
Continue reading »

Hindi Essay on “Pustkalaya , पुस्तकालय” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

पुस्तकालय पुस्तकालय से तात्पर्य है पुस्तकों का घर। विद्या के प्रचार-प्रसार में विद्यालयों के अतिरिक्त पुस्तकालयों का ही सर्वाधिक योगदान होता है। यह वही स्थल है जहां हमें भांति-भांति के विषयों की सहज जानकारी उपलब्ध हो जाती है। पुस्तकालयों का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। प्राचीन काल से ही जब से भाषा को लिपिबद्ध करने का प्रचलन हुआ पुस्तकालयों का भी गठन किया गया। विश्व के अनेक प्रांतों में आज भी प्राचीनतम...
Continue reading »