Home » Archive by category "Languages" (Page 4)

Hindi Short Story “Jese ko Tesa”, “जैसे को तैसा” Hindi Laghu Katha for Class 9, Class 10 and Class 12.

जैसे को तैसा Jese ko Tesa  एक राजा था। उसके पास एक हाथी था। हाथी को प्रतिदिन नदी पर ले जाया जाता था। मार्ग में एक दर्जी की दुकान थी। दर्जी हाथी को खाने के लिए हर रोज कुछ न कुछ देता था। वे पक्के मित्र थे। एक दिन दर्जी क्रोध में था। हाथी हर रोज की तरह वहाँ आया। उसने अपनी सूंड़ को खिड़की में डाला। दर्जी ने उसकी सूंड़...
Continue reading »

Hindi Short Story “Lalchi Kutta”, “लालची कुत्ता” Hindi Laghu Katha for Class 9, Class 10 and Class 12.

लालची कुत्ता Lalchi Kutta एक बार एक कुत्ता था। वह बहुत भूखा था। वह भोजन की तलाश में इधरउधर भटकता रहा। परंतु कहीं भी उसे भोजन नहीं मिला। अंत में एक मांस की दूकान पर पहुंचने पर उसने एक हड्डी का टुकड़ा चुराया। वह उसे अकेले ही खाना चाहता था। इसलिए वह जंगल की ओर भागा। रास्ते में एक नदी पड़ती थी। जब वह पुल पार कर रहा था की उसने...
Continue reading »

Hindi Short Story “Ekta Me Bal”, “एकता में बल” Hindi Laghu Katha for Class 9, Class 10 and Class 12.

एकता में बल Ekta Me Bal एक बार एक बुढा किसान था। उसके चार पुत्र थे। वे सदा एक दूसरे से झगड़ते रहते थे। किसान बड़ा दुःखी था। उसने उन्हें झगड़ा न करने की शिक्षा दी, परन्तु वे नहीं माने। एक दिन किसान बीमार हो गया। उसकअंतनिकट था। उसे एक युक्ति सूझी। उसने अपने पुत्रों को बुलाया। उसने उन्हें लकड़ियों का एक गट्ठा दिया। उसने उन्हें उस  गट्टे को तोड़ने के...
Continue reading »

Hindi Short Story “Buri Sangat”, “बुरी संगत” Hindi Laghu Katha for Class 9, Class 10 and Class 12.

बुरी संगत Buri Sangat एक धनी सेठ था। उसका एक ही बेटा था। उसका नाम त्रिशूल था। त्रिशूले एक अच्छा लड़का था। वह कठिन परिश्रम करता था। वह अपनी कक्षा में हमेशा प्रथम आता था। एक बार वह बुरी संगति में पड़ गया और लापरवाह हो गया। उसने स्कूल से भागना शुरु कर दिया। उसका पिता बहुत दुःखी हुआ। उसे एक उपाय सूझा वह बाजार से सेब खरीद लाया। उसने साथ...
Continue reading »

Hindi Short Story “Pyasa Kowa”, “प्यासा कौआ” Hindi Laghu Katha for Class 9, Class 10 and Class 12.

प्यासा कौआ Pyasa Kowa   एक बार एक कौआ था। वह बहुत प्यासा था। वह पानी की खोज में इधर-उधर उड़ता रहा। परंतु उसे पानी कहीं भी नहीं मिला। अंत में वह एक बाग में पहुँचा। वहाँ उसने पानी के एक जग देखा, परंतु उसमें पानी बहुत कम था। उसकी चोंच पानी तक नहीं पहुंच पा रही थी। उसने जग के समीप कुछ छोटे-छोटे पत्थर देखे, उसको एक विचार आया, उसने...
Continue reading »

Hindi Letter “Pustak Vikreta ko Patra likh kar Pustako ka aadesh patra ”,”पुस्तक विक्रेता को पत्र लिख कर कुछ पुस्तकों का आदेश दें” Hindi Letter for Class 10, 12.

patra lekhan
पुस्तक विक्रेता को पत्र लिख कर कुछ पुस्तकों का आदेश दें Pustak Vikreta ko Patra likh kar Pustako ka aadesh patra    सेवा में, प्रबंधक महोदय, मैसर्स गीता पुस्तक केन्द्र, हैदराबाद। श्रीमान् जी, मैं आपकी अति आभारी रहूँगी यदि आप निम्न पुस्तकें दस दिनों में भेज दें 1, केन्द्रीय हिन्दी व्याकरण – डॉ. गोपाल शर्मा 595.00 1 प्रति श्रेष्ठ हिन्दी निबंध – नितिन टंडन 595.00 1 प्रति श्रेष्ठ हिन्दी पत्र-लेखन –...
Continue reading »

Hindi Letter “Mitra ke Pita ke Dehant par Samvedna patra ”,”मित्र के पिता के देहांत पर संवेदना पत्र ” Hindi Letter for Class 10, 12.

patra lekhan
मित्र के पिता के देहांत पर संवेदना पत्र  Mitra ke Pita ke Dehant par Samvedna patra    11, राजाजी नगर, चौक, वाराणासी तिथि 02-01-1999 प्रिय अनुराग, तुम्हारे पिताजी के निधन का दुःखद समाचार पाकर पूरे परिवार को बहुत ही दःख हुआ। हम लोग समझ रहे थे कि अभी वे कम से कम नाती का चेहरा तो देखेंगे ही। पर जाने वाले को कौन रोक सकता है। यह तो जीवन-चक्र का सत्य...
Continue reading »

Hindi Letter “Durghatna ke suchna milne par mitra ko Sahanbhuti patra ”,”दुर्घटना की सूचना मिलने पर मित्र को सहानुभूति-पत्र लिखें” Hindi Letter for Class 10, 12.

patra lekhan
दुर्घटना की सूचना मिलने पर मित्र को सहानुभूति-पत्र लिखें Durghatna ke suchna milne par mitra ko Sahanbhuti patra    1, तेली चौकी, कानपुर -67. तिथि 12-06-2048 प्रिय अशोक जी, सप्रेम नमस्कार। आपका स्वास्थ्य अब कैसा है? आपके हालचाल के बारे में कल ही रोहित से पता चला कि किस तरह से आप आटो-बस दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गए थे और आपके हाथ की हड्डी टूट गयी थी। अब...
Continue reading »