Home » Archive by category "Languages" (Page 3)

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Karm hi Pooja Hai”, “कर्म ही पूजा है” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

कर्म ही पूजा है Karm hi Pooja Hai   व्यक्ति की सफलता के लिए कर्मठ होना आवश्यक है। उसे कर्म में ही विश्वास करना चाहिए। जिस व्यक्ति में आत्म-विश्वास है, वह व्यक्ति जीवन में कभी असफल नहीं हो सकता है, हाँ जो व्यक्ति हर बात के लिए मुँह जोहता है, उसे अनेक बार निराशा का सामना करना पड़ता है। अकर्मण्य व्यक्ति ही भाग्य के भरोसे बैठता है। कर्मवीर व्यक्ति तो बाधाओं...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Pragati ke Path par Bharat”, “प्रगति के पथ पर भारत ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

प्रगति के पथ पर भारत  Pragati ke Path par Bharat                   भारत निरंतर प्रगति के पथ पर विकसित होता चला आ रहा है। आजाद भारत ने 60 वर्ष की यात्रा पूरी कर ली है। अब उसकी योजनाओं का सुफल मिलना शुरू हो गया है।                 अपनी उपलब्धियों को हम अक्सर कमतर आँका करते हैं। गर्व की अनुभूति में वह ताकत है जो आम जन में आशाओं और उम्मीदों का नया...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Nashakhori-Ek Abhishap”, “नशाखोरी-एक अभिशाप ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

नशाखोरी-एक अभिशाप  Nashakhori-Ek Abhishap                 मादक द्रव्य सेवन की प्रवृत्ति हजारों वर्ष पुरानी है। अनुसंधान एवं वस्तु-निर्माण की शक्ति से युक्त मानवों ने सभ्यता के विकास के साथ एक से बढ़कर एक उपयोगी चीजें खोज लीं, उपकरण बना लिए, वस्तुएँ निर्मित कर लीं। इस क्रम में उन्होंने मादक द्रव्य ढूँढ़ निकाले एवं उनका प्रयोग करना सीख लिया। भारते के प्राचीन ग्रंथों में ’सोम’ और ’सुरा’ इस बात का प्रमाण है कि...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Varishth Nagriko ki Samasyaye”, “वरिष्ठ नागरिकों की समस्याएँ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

वरिष्ठ नागरिकों की समस्याएँ Varishth Nagriko ki Samasyaye                 वर्तमान समय में वरिष्ठ नागरिक जनों का समूह एक पृथकता ग्रहण करता जा रहा है। लगभग 65 वर्ष के व्यक्ति वरिष्ठ नागरिक की कोटि में आते हैं। सामान्यतः सभी सेवा-निवृत व्यक्ति स्वयं को वरिष्ठ नागरिक जन मानते हैं। आप इन लोगों को प्रातः एवं सांयकाल पार्कों में सैर करते अथवा ताश खेलते देख सकते हैं। इन्हें अपना समय बिताने के लिए कुछ-न-कुछ...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Information Technology ki Uplabhdiya”, “सूचना प्रौद्योगिकी की उपलब्धियाँ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

सूचना प्रौद्योगिकी की उपलब्धियाँ Information Technology ki Uplabhdiya                 आधुनिक युग समूचना पौद्योगिकी क्रान्ति की वजह से आई. टी. (सूचना पौद्योगिकी) का युग कहा जा सकता है। मानव की वैगानिक उपलब्धियों में यह महत्वपूर्ण और क्रांतिकारी उपलब्धि है। कंप्यूटर और इंटरनेट के सहयोग से आज का मानव विश्व के किसी भी भाग से किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त कर सकता है। वह सम्पूर्ण विश्व में अपने उत्पादन का विज्ञापन कर...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Antriksh me Bharat ki Uplabhdiya”, “अंतरिक्ष में भारत की उपलब्धियां” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

 अंतरिक्ष में भारत की उपलब्धियां Antriksh me Bharat ki Uplabhdiya                 भारत दुनिया के पहले कुछ ऐसे देशों में से एक है जिसने देश के विकास में ’स्पेस टेक्नोलाॅजी’ के महत्व को अच्छी तरह से समझा है। अंतरिक्ष कार्यक्रम की शुरूआत के बाद इन तीन दशकों में भारत ने इस क्षेत्र में जबर्दस्त सफलता हासिल की है। इंडियन नेशनल सैटेलाइट (इनसैट) और इंडियन रिमोट सेसिंग (आई. आर. एस.) सैटेलाइट विकसित कर...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Mera Bharat Mahan”, “मेरा भारत महान” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

मेरा भारत महान Mera Bharat Mahan                 हमारा देश भारत अत्यन्त महान् एवं सुन्दर है। यह देश इतना पावन एवं गौरवमय है कि यहाँ देवता भी जन्म लेने को लालायित रहते हैं। हमारी यह जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है। कहा गया है-श्जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीबसीश् अर्थात्              जननी और जन्म भूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है। प्रसिद्व छायावादी कवि जयशंकर प्रसाद जी ने अपने एक नाटक के गीत में लिखा है-...
Continue reading »

Hindi Essay, Paragraph, Speech on “Cable TV ke Samaj par Prabhav ”, “केबल टीवी के समाज पर प्रभाव ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation Classes.

केबल टीवी के समाज पर प्रभाव  Cable TV ke Samaj par Prabhav                  भारतीय समाज में पिछले दस-बारह वर्षों में केबल संस्कृति की वजह से अनेक परिवर्तन आए हैं। रंगीन टेलीविजन पर जब से लोगों ने अनेक टी.वी. चैनलों पर विभिन्न कार्यक्रम देखने में अधिक रूचि दिखाई है, तब से इसका भारतीय संस्कृति पर प्रभाव निरन्तर बढ़ता ही जा रहा है। केबल संस्कृति से भारतीय समाज में आधुनिकता और पाश्चात्य संस्कृति...
Continue reading »