Home » Archive by category "Languages" (Page 2)

Hindi Essay on “Audyogikaran” , ”औधोगिकरण” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
औधोगिकरण Audyogikaran                 जिसे अंग्रेजी भाषा में इंडस्ट्रियलाइजेशन कहा  जाता है, उसे ही हिन्दी में उद्योगीकरण कहा जाता है। इसका आशय यह है कि किसी भी देश में वहां के आर्थिक विकास के लिए वैज्ञानिक आधारों पर और विशाल पैमाने पर उद्योग का विकास हो। कारण, आज केवल ग्रामीण अद्योग-धन्धे ही इसके लिए पर्याप्त नहीं कहे जा सकते हैं। कारखानों से उत्पादन भी हो और उत्पादित वस्तुओं को खपाने के लिए...
Continue reading »

Hindi Essay on “G8 Shikhar Sammelan” , ”G8 शिखर सम्मेलन” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
G8 शिखर सम्मेलन G8 Shikhar Sammelan विश्व के 8 प्रमुख औद्योगिक लोकतंात्रिक देशों का समूह G 8 के नाम से जाना जाता है। इसके सदस्य देश हैं- अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, इटली, फ्रांस, जर्मनी, कनाडा, व रूस। इसके गठन की शुरूआत 1975 में संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, जर्मनी व फ्रांस ने न्यूयाॅर्क में G5 से की। कुछ दिनों बाद इटली के शामिल होने से यह G6 हो गया। 1976 में कनाडा...
Continue reading »

Hindi Essay on “Censor Board ki Bhumika” , ”सेंसर बोर्ड की भूमिका” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
सेंसर बोर्ड की भूमिका Censor Board ki Bhumika                   ज्ञातव्य है कि भारतीय फिल्म उद्योग दुनिया में सबसे बड़ा है। सांस्कृतिक क्षेत्र में फिल्म निर्माण एवं प्रदर्शन का स्थान महत्त्वपूर्ण है। क्योंकि जनतंत्र में यह सर्वाधिक प्रशंसित विधा है। जनता के राय-निर्माण और उन्हें जानकारियां उपलब्ध कराने मंे, उनके जीवन और परंपराओं को समझने में फिल्मों की उल्लेखनीय भूमिका होती है। लोगों के विचारांे और सोच को प्रभावित करने की...
Continue reading »

Hindi Essay on “Ekta ka Mahatva” , ”एकता का महत्व” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
एकता का महत्व Ekta ka Mahatva एक होने के भाव को ‘एकता’ कहते हैं। किसी काम को करते समय हाथ की पांचों उंगलियों का एक होना, तिनकों को मिलाकर रस्सी का निर्माण, ईंटों के संयोग से दीवार का निर्माण, कुछ व्यक्तियों के मेल से परिवार का निर्माण एवं छोटे-छोटे राज्यों के संयोग से एक शक्तिशाली राष्ट्र का निर्माण इत्यादि एकता के कुछ दृष्टान्त हैं। यदि मानव परस्पर पृथक-पृथ्क होकर विचार एवं...
Continue reading »

Hindi Essay on “Setusamudram Pariyojana” , ”सेतुसमुद्रम परियोजना” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
सेतुसमुद्रम परियोजना Setusamudram Pariyojana   सेतुसमुद्रम नौवहन परियोजना ;ैमजनेंउनकतंउ ैीपच ब्ंदंस च्तवरमबज.ैैब्च्) भारत और श्रीलंका के बीच एक परियोजना है। भारत और श्रीलंका के बीच समुद्र की गहराई बढ़ाकर इस मार्ग को नौवहन योग्य बनाने की परियोजना के तहत तमिलनाडु में कोडैकनाल के तट से 45 कि.मी. दूर खाड़ी में खुदाई का काम प्रारम्भ हो चुका है। लगभग 100 साल पुरानी सेतुसमुद्रम परियोजना को केन्द्र सरकार की मंजूरी मिलने के बाद...
Continue reading »

Hindi Essay on “Jativad ki Samasya” , ”जातिवाद की समस्या” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
जातिवाद की समस्या Jativad ki Samasya  गाीता में भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं- ’चातुर्वण्यं मया सृष्टं गुणकर्म विभागशः।’ अर्थात चार वर्ण-बा्रहाण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र-गुण एवं कर्म के आधार पर मेरे द्वारा रचित हैं। भगवान बुद्ध और महावीर ने भी कहा है- ’मनुष्य जन्म से नहीें, वरन कर्म से बा्रहाण या शुद्र होता है।’ पहले बा्रहाण का पुत्र व्यवसाय करता था, तो वह वैश्य हो जाता था। सभी आपस में मिलजुल रहते थे।...
Continue reading »

Hindi Essay on “Saniya Mirza” , ”सानिया मिर्जा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
सानिया मिर्जा Saniya Mirza                 उम्र के लिहाज से ज्यादा प्रतिभावान, दोनों हाथों से रैकेट पकड़कर बैक हैंड शाॅट लगाने वाली, विश्व टेनिस में सबसे तेजी से रैकिंग सुधारने वाली 18 वर्षीय यह बाला भारत में हैदराबाद शहर में जन्मी और बढ़ी। मात्र 18 वर्ष की इस बाला ने अपने खेल से विश्व टेनिस में सनसनी फैला दी है। इस बाला के पास जज्बा है, महत्वकांक्षा है और ऐसी दमखम वाली...
Continue reading »

Hindi Essay on “Chunavi Hinsa” , ”चुनावी हिंसा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
चुनावी हिंसा Chunavi Hinsa   पहले लोग राजनीति में सेवा भाव से आते थे। जनता की सेवा ने अपना कत्र्तव्य समझते थे। लोगों में देशभक्ति की भावना थी इसलिए लोकतंत्र की मर्यादा को अक्षुण्ण रखने के लिए चुनाव की पवित्रता लोगों का अभीष्ट था। आज परिस्थिति बदली नजर आती है। राजनीति में आते ही लोग अपनी स्वार्थसिद्धि में लिप्त हो जाते हैं। चुनाव में जीतने का मतलब लोग कायापलट होना समझते...
Continue reading »