Home » Languages » Archive by category "Hindi (Sr. Secondary)" (Page 81)

Hindi Essay on “Nadi Ki Atamkatha” , ” नदी की आत्मकथा ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

नदी की आत्मकथा मै नदी हूँ | मेरे कितने ही नाम है जैसे नदी , नहर , सरिता , प्रवाहिनी , तटिनी, क्षिप्रा आदि | ये सभी नाम मेरी गति के आधार पर रखे गए है | सर- सर कर चलती रहने के कारण मुझे सरिता कहा जाता है | सतत प्रवाहमयी होने के कारण मुझे प्रवाहिनी कहा गया है | इसी प्रकार दो तटो के बीच में बहने के कारण...
Continue reading »

Hindi Essay on “Pustak Ki Atam Katha” , ” पुस्तक की आत्मकथा ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

पुस्तक की आत्मकथा वर्तमान में मै एक पुस्तक हूँ | मुझे पाकर मानो मानव ने एक अमर निधि प्राप्त कर ली है | मै उसे सदा ज्ञान – विचारो का दान देती रहती हूँ | मुझे आज ज्ञान – विज्ञान और समझदारी का , आनन्द और मनोरंजन का खजाना माना जाता है | परन्तु आदर – मान की यह स्थिति मुझे एकाएक या सरलता से नही मिल गई है | मेरा...
Continue reading »

Hindi Essay on “Chai ki Atam Katha” , ”चाय की आत्मकथा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

चाय की आत्मकथा मै ‘चाय’ आज के युग की अमर देंन  हूँ | मै आज सारे विश्व में व्यापित हूँ | आधुनिक पेय पदार्थो में मेरा विशेष स्थान है | मेरे मन में किसी के प्रति लेशमात्र भी भेदभाव नही | मै सभी को समान स्फूर्ति प्रदान करती हूँ | बड़े – बड़े होटलों और भवनों से लेकर छोटी-छोटी झोपड़ियो तक मेरी पहुँच है | शादी – विवाह व स्वागत समारोहों...
Continue reading »

Hindi Essay on “Sainik Ki Aatam Katha ” , ” सैनिक की आत्मकथा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

सैनिक की आत्मकथा Sainik ki Aatam Katha निबंध नंबर : 01 मै एक सैनिक हूँ | मेरा नाम बलवन्त सिह है | मै हरियाणा प्रान्त के एक गाँव पौलंगी का रहने वाला हूँ | मेरे पूर्वज शौर्य के प्रतीक थे | वे भी मिलिट्री के जवान रह चुके है | बचपन में मै उनके शौर्य तथा बलिदान की गाथा सुनता रहता था | उनकी इन शौर्य –गाथाओ को सुन –सुन कर...
Continue reading »

Hindi Essay on “Yadi Main Doctor Hota ” , ” यदि मै डाक्टर होता” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

यदि मै डाक्टर होता संसार में अनेक प्रकार के आजीविका के साधन है | उनमे से कई साधन तो मानवीय दृष्टि से बड़े ही संवेदनशील हुआ करते है जिनका सीधा सम्बन्ध मनुष्य की भावनाओं , उसके प्राणों तथा सारे जीवन के साथ हुआ करता है | डाक्टर का धन्धा कुछ इसी प्रकार का पवित्र , मानवीय संवेदनाओ से युक्त, प्राण – दान और जीवन – रक्षा की दृष्टि से ईश्वर के...
Continue reading »

Hindi Essay on “Yadi Mein Vidyalaya ka Pradhanacharya Hota” , ” यदि मै विद्दालय का प्रधानाचार्य होता” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

यदि मै विद्दालय का प्रधानाचार्य होता विद्दालय में प्रधानाचार्य  का पड़ अत्यन्त महत्त्वपूर्ण तथा उत्तरदायित्व पूर्ण होता है | वह विद्दालय का सर्वोच्च अधिकारी होता है | किसी भी विद्दालय की उन्नति और अवन्ती इसके प्रधानाचार्य की बहुत बड़ी भूमिका होती है | वह विद्दालय का केन्द्र होता है जिसके चारो और विद्दालय की समस्त गतिविधियाँ घुमती रहती है | उसके सभी कार्यकलापो का प्रभाव अप्रत्यक्ष रूप से विद्दार्थियो  आध्योपको तथा...
Continue reading »

Hindi Essay on “Yadi Mein Karodpati Hota” , ” यदि मै करोडपति होता ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

यदि मै करोडपति होता  Yadi Mein Karodpati Hota निबंध नंबर : 01  आज के भौतिक युग में धन सम्पति से परिपूर्ण होना बड़े सौभाग्य की बात है | परन्तु इसके बिना जीवन निरर्थक-सा लगता है | जिस व्यक्ति के पास बहुत अधिक सम्पत्ति हो जाती है वह प्राय : बुराइयो की और अग्रसर होने लगता है | वे मदिरापान करने लगते है, व्यभिचारी बन जाते है तथा अन्य अनेक प्रकार के...
Continue reading »

Hindi Essay on “Yadi Mein Pradhan Mantri Hota” , ” यदि मै प्रधानमंत्री होता” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

यदि मै प्रधानमंत्री होता हमारा देश भारतवर्ष एक गणतंत्र देश है | यहाँ व्यस्क मताधिकार के द्वारा कोई भी योग्य व्यक्ति जो भारत का नागरिक हो इस देश का प्रधानमंत्री बन सकता है | फिर भी भारत जैसे महान लोकतंत्र देश का प्रधानमंत्री बनना वास्तव में बहुत गर्व और गौरव की बात है | प्रधानमंत्री बनने के लिए लम्बे और व्यापक जीवन अनुभवो का राजनीतिक कार्यो और गतिविधियों का प्रत्यक्ष अनुभव...
Continue reading »