Home » Languages » Archive by category "Hindi (Sr. Secondary)" (Page 52)

Hindi Letter “Accha Samay Sath Gujarne ka Patra ”, “अच्छा समय साथ गुजारने का पत्र” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

अच्छा समय साथ गुजारने का पत्र Accha Samay Sath Gujarne ka Patra  आदरणीय चाचाजी,           पिछले सप्ताह आप हमें चिड़ियाघर घुमाने ले गये थे। मुझे यह लिखते हुए हार्दिक प्रसन्नता हो रही है कि मैंने चाची, पैपी, बब्बू और नीटू के साथ खूब आनन्द उठाया।           आपने मुझे अपना बहुमूल्य समय दिया, यह मेरे लिए परम सौभाग्य रहा। आपके साथ चिड़ियाघर में आइसक्रीम का आनन्द उठाना भी हमारे लिए बड़ा अच्छा...
Continue reading »

Hindi Letter “Rehaish ko Swikarne ka Patra”, “रिहाइश को स्वीकारने का पत्र” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

रिहाइश को स्वीकारने का पत्र Rehaish ko Swikarne ka Patra आदरणीय विजय जी,                    मैं आपके प्रति हृदय से कृतज्ञ हूँ कि आपने मुम्बई में, अपने फ्लैट में दो माह के लिए जाड़ों में रहने की सुविधा मुहैया कर दी। सचमुच यह सुअवसर मैं खोने वाला नहीं।                    हम दिल्ली गणतंत्र दिवस का जुलूस देखने के बाद डिलक्स ट्रेन से ठीक 28 तारीख को मुम्बई पहुँच रहे हैं।                    शेष मिलने...
Continue reading »

Hindi Letter “Shok Samvedana ka Patra”, “शोक संवेदना का पत्र” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

शोक संवेदना का पत्र Shok Samvedana ka Patra             आदरणीय चाचाजी,                    मैं हृदय से आपके शोकमग्न अवस्था में शामिल हूँ। इस पारिवारिक दुःखद क्षणों से मेरी इच्छा है कि मैं उड़कर आप तक पहुँच जाऊँ।                    मैं मृतक आत्मा के प्रति अपना श्र˜ा सुमन अर्पित करते हुए, शांति की कामना करती हूँ। ईश्वर आपको धैर्य दे, इस भीषण दुःख को सहने की शक्ति प्रदान करें।                    आपके दुःख में...
Continue reading »

Hindi Letter “Durghatna ke Bare me Patra”, “दुर्घटना के बारे में पत्र” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

दुर्घटना के बारे में पत्र Durghatna ke Bare me Patra           प्रिय सुदेश,                    हम सब को यह समाचार पीड़ित कर गया कि चण्डीगढ़ के रास्ते में तुम कार दुर्घनटाग्रस्त हुए। हमें यह जानकर कुछ हद तक सन्तोष मिला कि यह एक मामूली दुर्घटना थी और तुम स्वास्थय लाभ कर रहे हो।                    कृप्या हमें अपने स्वास्थय लाभ की सही स्थिति की जानकारी दो। यदि किसी किस्म की दिल्ली से चिकत्सीय...
Continue reading »

Hindi Letter “Bimari ke bare me Jankari”, “बीमारी के बारे में जानकारी” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

बीमारी के बारे में जानकारी Bimari ke bare me Jankari आदरणीय चाचाजी,           हम सभी यहाँ पर आपके स्वास्थय के बारे में चितित हैं। हमें आपके ठण्ड और जुकाम से पीड़ित होने की चिंताजनक खबर मिली। शिमला में शीत लहर चल रही है यह उसका ही असर है। आप क्यों नहीं दिल्ली उस समय के लिए आ जाते, जब तक कि वहाँ बर्फबारी खत्म न हो जाये।           कृप्या अपने स्वास्थय...
Continue reading »

Hindi Letter “Patni ko Paramarsh”, “पत्नी को परामर्श” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

पत्नी को परामर्श Patni ko Paramarsh   मेरी प्रिय अनु,                तुम अक्सर मुझे बताती रहती हो कि तुम्हारी सास तुम्हारे प्रति इतना अच्छा व्यवहार नहीं करती जितनी तुम आशा करती थीं। यद्यपि मेरी बहन तुम्हें चाहती है मगर माँ तुम्हारी छोटी-मोटी गलतियांे को उस तरह नजर अन्दाज नहीं कर जातीं जैसे अपनी सगी बेटी का करती हैं। यह एक स्वाभाविक बात है मेरी प्रिय। और पति-पत्नी के मधुर सम्बन्धों...
Continue reading »

Hindi Letter “Ek Pati ka shikayati patra”, “एक पति का शिकायती पत्र” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

एक पति का शिकायती पत्र Ek Pati ka shikayati patra प्रियतमा,           तुम कहती हो कि तुम मुझे प्रेम भरा पत्र नहीं लिख सकती, क्योंकि तुम नहीं जानती कि प्रेम-पत्र में क्या लिखा जाता है और प्रेम-पत्र कैसे लिखा जाता है। शेक्सपियर का कहना है- श् वे प्यार नहीं करते, जो अपने प्यार का प्रदर्शन नहीं कर सकते। श्           मुझे प्रेम पत्र लिखो अगर तुम मुझे प्रेम करती हो।                                                                                                ...
Continue reading »

Hindi Letter “Pehli nazar me hue Pyar hetu prem patra”, “पहली नज़र  में हुए प्यार हेतु प्रेम पत्र ” Hindi Letter for Class 10, Class 12 and Graduate Classes

पहली नज़र  में हुए प्यार हेतु प्रेम पत्र  Pehli nazar me hue Pyar hetu prem patra             मेरी वास्तिविक स्वर्ग,                    मैंने तुम्हें पहली बार अपने मित्र के विवाह पार्टी के अवसर पर देखा। पर मुझे ऐसा प्रतीत होता है जैसे पूर्व जन्म और जन्म-जन्मातर से मैं तुम्हारे प्रेम से आशक्त हूँ। उसी समय से मेरे दिल की धड़कने बढ़ गयी हैं और हर धड़कन आवाज देती है-           यह...
Continue reading »