Home » Languages » Archive by category "Hindi (Sr. Secondary)" (Page 52)

Hindi Essay on “Aatankwaad” , ” आतंकवाद” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Essay No. 1 आतंकवाद  Aatankwaad      भूमिका – आज पुरे विश्व में आतंक का साया मंडरा रहा है | न जाने कैन-सा हवाई जहाज अगुआ कर लिया जाए और किसी गगनचुंबी इमारत से टकरा दिया जाए | न जाने, कब-कहाँ कौन मारा जाए ? जब आतंकवाद के क्रूर पंजों से संसद, विधानसभा और मुख्यमंत्री तक सुरक्षित नहीं तो आम आदमी कहाँ जाए ?      आतंकवाद क्यों – प्रश्न उठता है कि...
Continue reading »

Hindi Essay on “Mehangai” , ” महँगाई” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

निबंध नंबर : 01  महँगाई Mahangai       महँगाई की समस्या – वर्तमान की अनेक समस्याओं में से एक महत्वपूर्ण समस्या है – महँगाई | जब से देश स्वतंत्र हुआ है, तब से वस्तुओं की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही हैं | रोजमर्रा की चीजों में 150 से 250 गुना तक की कीमत-वृद्धि हो चुकी है |      महँगाई बढ़ने के कारण – बाज़ार में महँगाई तभी बढ़ती है जबकि माँग अधिक...
Continue reading »

Hindi Essay on “Bharashtachar ” , ” सामाजिक जीवन में भ्रष्टाचार” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

सामाजिक जीवन में भ्रष्टाचार      भरष्टाचार का बढ़ता स्वरूप – भारत के सामाजिक जीवन में आज भ्रष्टाचार का बोलबाला है | यहाँ का रिवाज़ है – रिश्वत लो और पकड़े जाने पर रिश्वत देकर छुट जाओ | नियम और कानून की रक्षा करने वाले सरकारी कर्मचारी सबसे बड़े भ्रष्टाचारी हैं | केवल तीन करोड़ में देश के सांसदों को खरीदना और उनका बिकना भ्रष्टाचार का सबसे शर्मनाक दृश्य है |     ...
Continue reading »

Hindi Essay on “Berojgari ” , ” बेरोज़गारी : समस्या और समाधान” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

बेरोज़गारी : समस्या और समाधान             बेकारी की समस्या और अभिप्राय – आज भारत के सामने जो समस्याएँ कण फैलए खड़ी हैं, उनमें से एक चिंतनीय समस्या है – बेकारी | लोगों के पास हाथ हैं, पर काम नहीं है; प्रशिक्षण है, पर नौकरी नहीं है |             आज देश में प्रशिक्षित और अप्रशिक्षित-दोनों प्रकार के बेरोज़गारों की फौज़ जमा है | फैक्ट्रियों, सड़कों, बाज़ारों में भीड़ है | शहरों में...
Continue reading »

Hindi Essay on “Sampradayikta” , ” सांप्रदायिकता : एक अभिशाप ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

निबंध नंबर : 01  सांप्रदायिकता : एक अभिशाप             सांप्रदायिकता का अर्थ और कारण – जब कोई संप्रदाय स्वयं को सर्वश्रेष्ठ और अन्य स्म्प्दयों को निम्न मानने लगता है, तब सांप्रदायिकता का जन्म होता है | दूसरी तरफ भी कम अंधे लोग नहीं होते | परिणामस्वरूप एक संप्रदाय के अंधे लोग अन्य धर्मांधों से भिड पड़ते है और सारा जन-जीवन लहूलुहान कर देते हैं | इन्हीं अंधों को फटकारते हुए महात्मा...
Continue reading »

Hindi Essay on “Shahri Jeevan mein Badhta Pradushan ” , ” शहरी जीवन में बढ़ता प्रदूषण ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

शहरी जीवन  में बढ़ता प्रदूषण             शहरों का निरंतर विस्तार और बढ़ती जनसँख्या – आज की सभ्यता को शहरी सभ्यता को शहरी सभ्यता कह सकते हैं | यद्दपि  भारत की अधिकांश जनता गाँवों में बस्ती है किन्तु  उसके हृदयों में बसते – शहर बढ़ रहे है, साथ-साथ जनशंख्या भी तेजी से बढती रही है | हर वर्ष भारत में एक नया ऑस्ट्रेलिया और जुड़ जाता है |             शहरों में बढ़ते...
Continue reading »

Hindi Essay on “Pradushan, Ek Samasya ” , ” प्रदूषण : एक समस्या ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

प्रदूषण : एक समस्या             पर्यावरण का अर्थ – पर्यावरण का अर्थ है – हमारे चारों और का वातावरण | दुर्भाग्य से हमारा यही पर्यावरण आज दूषित हो गया है | प्रदूषण मुख्यत : तीन प्रकार का होता है – वायु-प्रदूषण, जल-प्रदूषण तथा ध्वनि-प्रदूषण |             प्रदूषण के कारण – प्रदूषण का जन्म अंधाधुंध वैज्ञानिक प्रगति के कारण हुआ है | जब से मनुष्य ने प्रकृति के साथ मनचाही छेड़छाड़ की...
Continue reading »

Hindi Essay on “Dahej Pratha ” , ” दहेज-प्रथा : एक गंभीर समस्या ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

दहेज-प्रथा : एक गंभीर समस्या Dahej Pratha Ek Gambhir Samasya   निबंध नंबर – 01 दहेज का बदलता स्वरूप –  भारतीय नारी का जीवन जिन समस्याओं का नाम सुनते ही कॉप उठता है – उनमें सबसे प्रमुख है – दहेज | प्ररंभ में दहेज़ कन्या के पिता दुवरा स्वेच्छा-से  अपनी बेटी को दिया जाता था | विवाह के समय बेटी को प्रोमोपहार देना अच्छी परंपरा थी | आज भी इसे प्रेम-उपहार...
Continue reading »