Home » Languages » Archive by category "Hindi (Sr. Secondary)" (Page 2)

Hindi Essay on “Setusamudram Pariyojana” , ”सेतुसमुद्रम परियोजना” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
सेतुसमुद्रम परियोजना Setusamudram Pariyojana   सेतुसमुद्रम नौवहन परियोजना ;ैमजनेंउनकतंउ ैीपच ब्ंदंस च्तवरमबज.ैैब्च्) भारत और श्रीलंका के बीच एक परियोजना है। भारत और श्रीलंका के बीच समुद्र की गहराई बढ़ाकर इस मार्ग को नौवहन योग्य बनाने की परियोजना के तहत तमिलनाडु में कोडैकनाल के तट से 45 कि.मी. दूर खाड़ी में खुदाई का काम प्रारम्भ हो चुका है। लगभग 100 साल पुरानी सेतुसमुद्रम परियोजना को केन्द्र सरकार की मंजूरी मिलने के बाद...
Continue reading »

Hindi Essay on “Jativad ki Samasya” , ”जातिवाद की समस्या” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
जातिवाद की समस्या Jativad ki Samasya  गाीता में भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं- ’चातुर्वण्यं मया सृष्टं गुणकर्म विभागशः।’ अर्थात चार वर्ण-बा्रहाण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र-गुण एवं कर्म के आधार पर मेरे द्वारा रचित हैं। भगवान बुद्ध और महावीर ने भी कहा है- ’मनुष्य जन्म से नहीें, वरन कर्म से बा्रहाण या शुद्र होता है।’ पहले बा्रहाण का पुत्र व्यवसाय करता था, तो वह वैश्य हो जाता था। सभी आपस में मिलजुल रहते थे।...
Continue reading »

Hindi Essay on “Saniya Mirza” , ”सानिया मिर्जा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
सानिया मिर्जा Saniya Mirza                 उम्र के लिहाज से ज्यादा प्रतिभावान, दोनों हाथों से रैकेट पकड़कर बैक हैंड शाॅट लगाने वाली, विश्व टेनिस में सबसे तेजी से रैकिंग सुधारने वाली 18 वर्षीय यह बाला भारत में हैदराबाद शहर में जन्मी और बढ़ी। मात्र 18 वर्ष की इस बाला ने अपने खेल से विश्व टेनिस में सनसनी फैला दी है। इस बाला के पास जज्बा है, महत्वकांक्षा है और ऐसी दमखम वाली...
Continue reading »

Hindi Essay on “Chunavi Hinsa” , ”चुनावी हिंसा” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
चुनावी हिंसा Chunavi Hinsa   पहले लोग राजनीति में सेवा भाव से आते थे। जनता की सेवा ने अपना कत्र्तव्य समझते थे। लोगों में देशभक्ति की भावना थी इसलिए लोकतंत्र की मर्यादा को अक्षुण्ण रखने के लिए चुनाव की पवित्रता लोगों का अभीष्ट था। आज परिस्थिति बदली नजर आती है। राजनीति में आते ही लोग अपनी स्वार्थसिद्धि में लिप्त हो जाते हैं। चुनाव में जीतने का मतलब लोग कायापलट होना समझते...
Continue reading »

Hindi Essay on “Sangati” , ”संगति” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
संगति Sangati  संगति का अर्थ होता है साहचर्य या साथ। मनुष्य अपने दैनिक जीवन में जिसके साथ अधिक से अधिक समय व्यतीत करता है, वही उसकी संगति कहलाती है। मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है, वह बिना संगति के जी नहीं सकता। अब यह एक विचारणीय प्रश्न है कि मानव किसके साथ संगति करे और किसके साथ न करे। क्योंकि संगति से ही गुण और दोष उत्पन्न होते हैं। ‘संसर्ग जः दोषगुणाः...
Continue reading »

Hindi Essay on “Swavalamban” , ”स्वावलम्बन ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
स्वावलम्बन  Swavalamban स्वावलम्बन में दो शब्द हैं- स्व और लम्बन। एक का अर्थ है अपना और अवलम्बन का अर्थ है ‘सहारा’। इस प्रकार स्वावलम्बन का अर्थ हुआ ‘अपना सहारा स्वयं बनना’। दूसरे शब्दों में अपने आत्मबल को जागृत करना ही स्वावलम्बन है। राष्ट्र कवि दिनकर स्वावलम्बी व्यक्ति के लक्षण बताते हुए कहते हैं- अपना बल तेज जगाता है। सम्मान जगत् से पाता है।                 स्वावलम्बन के दो पहलू हैं- आत्मनिश्चय और...
Continue reading »

Hindi Essay on “Prakritik Aapda Tsunami” , ”प्राकृतिक आपदा सुनामी ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
प्राकृतिक आपदा सुनामी  Prakritik Aapda Tsunami ‘सुनामी’ पिछले कुछ वर्षों में काफी चर्चा में रहा। लेकिन यह दीगर बात है कि अब भी लोग ‘सुनामी’ का सही मतलब नहीं समझ पा रहे हैं। लेकिन प्रत्यक्षतः यह अनुभव करते हैं कि समुद्र में जोरदार तूफान आया जिसमंे लाखांे लोग जान से हाथ धो बैठे। ‘सूनामी’ एक जापानी शब्द है जो सु$नामी (दो शब्दों के योग से बना है।) जिसका अलग-अलग अर्थ है...
Continue reading »

Hindi Essay on “Sukha : Karan evm Prabandhan” , ”सूखा: कारण एवं प्रबन्धन” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
सूखा: कारण एवं प्रबन्धन Sukha : Karan evm Prabandhan   सूखा मानव द्वारा प्रकृति के मूल स्वरूप को परिवर्तित करने का परिणाम है। वनोन्मूलन, भू-जल का अति दोहन, जल संभरण को महत्त्व न देना, बड़े-बड़े जलाशयांे को पाटकर खेती के काम में लाना इत्यादि कारणों से जल स्त्रोतों की गुणवत्ता में ह्रास हुआ। फलस्वरूप अनेक स्थानों पर सूक्ष्म परिवर्तन से मानसून की स्वाभाविक क्रियाशीलता प्रभावित हूई। सूखे के लिए निम्नलिखित कारण...
Continue reading »