Home » Articles posted by evirtualguru_ajaygour

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Nasha : Samasyaye Samadhan”, “नशा : समस्याएँ – समाधान” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
नशा : समस्याएँ – समाधान Nasha : Samasyaye Samadhan आज के इस भारत को देखते हुए अगर हम कहें कि यह युग तो पूर्ण रूप से मादक द्रव्य सेवन का ही युग है तो कोई गलत नहीं होगा। पर ऐसा भी नहीं कि मादक द्रव्य सेवन की  प्रवृत्ति आज की ही है, बल्कि यह तो शताब्दियों पूर्व से ही चली आ रही है। बस फर्क इतना है कि इसका नाम और...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Nijikaran ke Phayade aur Nuksan”, “निजीकरण : फायदे और नुकसान” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
निजीकरण : फायदे और नुकसान Nijikaran ke Phayade aur Nuksan   निजीकरणजिसे अंग्रेजी में हम प्राइवेटाइजिंग कहते हैं। एक बहुअर्थी अवधारणा है। जिसके विभिन्न अर्थ निकलते हैं। संकीर्ण अर्थ पर ध्यान दें तो निजीकरण का अर्थ राज्य के स्वामित्व वाली इकाइयों का संपूर्ण या कुछ इक्विटी को निजी शेयरधारकों को बेचा जाना, राज्य संस्थाओं से जो भी निजी क्षेत्र के उत्पादन की इकाइयों के स्वामित्व का हस्तांतरण और साथ ही निजी...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Rajbhasha Hindi”, “राजभाषा हिन्दी” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
राजभाषा हिन्दी Rajbhasha Hindi   ऐसा कहा जाता है कि मानव सृष्टि की श्रेष्ठतम कृति है। जो कि सत्य भी है। प्रकृति ने उसे तोफे में वाणी का अनुपम वरदान देकर उसके प्रति अपने प्रेम को प्रगट किया है। भाषा ही वह एकमात्र साधन है जिसके माध्यम से मानव अपने विचारों, भावों आदिको प्रगट कर सकता है।  भाषा के अभाव में सामाजिकता, राष्ट्रीयता किसी का महत्व नहीं रह जाता। किसी भी...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Shram ka Mahatva”, “श्रम का महत्व” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
श्रम का महत्व Shram ka Mahatva मानव जीवन में श्रम का अपना महत्व है। आदिम युग के मानव ने जब पहलेपहल पृथ्वी पर कदम रखा था, तब उसके पास न तो रहने के लिए कोई मकानथा, ना आवागमन का कोई साधन और तो और न अपना तन ढकने के लिए कोई वस्त्र। आदमी जंगली जानवरों की भाँति ही अपना जीवन यापन करता था। अन्य जानवरों की ही तरह पहाड़ों की कंदराएँ...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Aarakshan”, “आरक्षण” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
आरक्षण Aarakshan हमारा भारत देश सदैव से ही विविधता में एकता से भरा रहा है। वैसे तो आरक्षण को अंग्रेजी में रिजर्वेशन कहा जाता है, जिसका अर्थ है किसी को विशेष कोटा देना। समाज के प्रत्येक वर्ग में इसअसमानता को देखा जा सकता है। स्वतंत्रता के बाद यह भेद और भी उजागर होने लगा है। समाज के सर्वांगीण विकास के लिए इन उपेक्षित तथा पिछड़े वर्ग के उत्थान की अनेक योजनाएं...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Metro Train”, “मेट्रो रेल” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
मेट्रो रेल Metro Train  आज अगर हम किसी भी महानगर को देखते हैं तो हमें उसकी प्रगति देख जितनी खुशी होती है उतनी ही निराशा उसकी बेलगाम बढ़ती जनसंख्या, वाहनों की  बेतहाशा वृद्धि, प्रदूषण का कहर, सड़क दुर्घटनाओं के अनियंत्रित होते आंकड़े आदि को देख होती है।   कुछ भी हम कह लें, पर हर महानगर आज बड़ी तेजी से अपने विनाश की ओर बढ़ता ही जा रहा है। वहाँ सबसे...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Kagaji  aur Plastic Yug”, “कागजी युग  और प्लास्टिक युग” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
कागजी युग  और प्लास्टिक युग Kagaji  aur Plastic Yug   परिवर्तन संसार का नियम है, और संसार एक चक्र की तरह है जो चक्कर लगाता रहता है। न थकता है नथकाता है। मनुष्य अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए कुछ भी कर सकता है। सभ्यता के विकास चक्र में पहले ताम्र युग, लौह युग आदि का दौर चलता रहा। वैज्ञानिक प्रगति से हम प्लास्टिक युग तक पहुँच गए। वर्तमान समय में...
Continue reading »

Hindi Essay/Paragraph/Speech on “Tsunami Prakritik Aapada”, “प्राकृतिक आपदा के रूप में सुनामी” Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

Hindi Essays
प्राकृतिक आपदा के रूप में सुनामी Tsunami Prakritik Aapada   प्राकृतिक आपदा का अर्थ होता है प्राकृतिक रूप से किसी तरह की कोई विपत्ति का आना। फिर चाहे वह सुनामी के रूप में हो, भूकंप के रूप में, बाढ़ के रूप में या फिर सूखे के रूप में वह किसी भी प्रकार की विपदा हो सकती है।   सीधे तौर पर अगर हम किसी भी प्राकृतिक आपदा की सतह पर जाँच...
Continue reading »